एक ही लड़की से दो लड़के करते थे प्यार, फिर हुआ सरेआम मर्डर

0

राजधानी दिल्ली में अपराध करने वाले बेखौफ होकर वारदातों को अंजाम दे रहे हैं। ऐसे ही एक मामले में चार बदमाशों ने मिलकर एक युवक को चाकू से गोदकर मौत के घाट उतार दिया। हत्या की ये सनसनीखेज वारदात एक सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गई। पुलिस को छानबीन में पता चला है कि हमलावरों ने ऑनलाइन शॉपिंग पोर्टल से हत्या करने के लिए चाकू मंगाए थे।

कत्ल की ये वारदात दिल्ली के अम्बेडकर नगर थाना इलाके की है. जहां मंगलवार को सरेआम 19 साल के युवक की 4 लड़कों ने चाकू से गोदकर हत्या कर दी. ये पूरी वारदात वहां लगे एक सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गई. पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज के आधार पर ही आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है. पकड़ में आए आरोपियों की पहचान गौरव, रूप कुमार, समीर और सोहेल के तौर पर हुई है.

पुलिस ने आरोपियों के कब्जे से हत्या में इस्तेमालक किया गया एक चाकू भी बरामद कर लिया है. पूछताछ में पुलिस को पता चला है कि आरोपियों ने हत्या की वारदात को अंजाम देने के लिए दो चाकू एक ऑनलाइन शॉपिंग पोर्टल से आर्डर कर मंगवाए थे. इसके बाद इन चारों ने मंगलवार की देर शाम 19 साल के कुणाल की सरेआम चाकू से गोदकर हत्या कर दी थी.

पुलिस के मुताबिक आरोपी गौरव और पीड़ित कुणाल के एक ही लड़की को पसंद करते थे. गौरव ने इसी वजह से अपने साथियों के साथ मिलकर कुणाल की हत्या की साजिश रची थी. पुलिस के मुताबिक सभी आरोपियों की उम्र 18 साल है. दिल्ली पुलिस के मुताबिक 1 जून की रात साढ़े नौ बजे उन्हें जानकारी मिली थी कि मदनगीर के भूमिया चौक पर कुछ लोगों के बीच झगड़ा हो गया है.

जब पुलिस मौके पर पहुंची को पता लगा कि कुछ लोगों ने एक युवक को चाकू मारकर घायल कर दिया है. घायल युवक को हॉस्पिटल ले जाया गया. पुलिस की टीम जब हॉस्पिटल पहुंची तो उन्हें पता लगा कि 19 साल के कुणाल की हॉस्पिटल पहुंचने से ही पहले मौत हो चुकी थी. कुणाल को चार युवकों ने सरेआम चाकू मारा था. यह पूरी वारदात सीसीटीवी कैमरे में भी कैद हो गई थी.

पुलिस ने सीसीटीवी के आधार पर सभी चारों आरोपियों की पहचान कर ली और उसके बाद एक-एक कर चारों को गिरफ्तार कर लिया. पकड़े जाने के बाद चारों में से मुख्य साजिशकर्ता गौरव ने खुलासा करते हुए बताया कि उसने दो चाकू एक ऑनलाइन शॉपिंग वेबसाइट से आर्डर कर मंगाए थे. पुलिस अब दूसरे चाकू की तलाश में जुटी है.

आरोपियों ने पुलिस को बताया कि कुनाल भी उसी लड़की को पसंद करता था, जिसे गौरव चाहता था. जिसके बाद गौरव ने अपने दोस्तों के साथ मिलकर कुणाल को रास्ते से हटाने और सबक सिखाने के लिए यह पूरी साजिश रची थी.

छानबीन में पता चला है कि वारदात वाले दिन कुणाल अपने घर से करीब 7 बजे शाम को निकला था. 1 जून को ही कुणाल के पिता का जन्मदिन था और वह पिता के लिए बर्थडे केक लेने जा रहा था. तभी उसके साथ यह वारदात हुई. कुणाल की मौत से पूरा परिवार सदमे में है

पुलिस के मुताबिक कुणाल सांवरिया परिवार के साथ आई-2, मदनगीर में रहता था। इसके परिवार में पिता पवन कुमार, मां विमला देवी, बड़ा भाई रवि कुमार व बहन कोमल हैं। कुणाल ने इसी साल 12वीं कक्षा पास की थी। उसके पिता पवन एमसीडी में माली की नौकरी करते हैं। मंगलवार को कुणाल के पिता पवन का जन्मदिन था। कुणाल अपने पिता को सरप्राइज देने के लिए चुपचाप रात के समय घर से केक लेने निकल गया। कुणाल ने केक लाने की बात अपने बहन को बताई थी। इस बीच करीब नौ बजे के आसपास मदनगीर के भुमिया चौक के पास चार-पांच युवकों ने उसे घेर लिया। कहासुनी के बाद अचानक आरोपियों ने कुणाल पर चाकू से हमला कर दिया। सीसीटीवी फुटेज में चार आरोपी चारों ओर से कुणाल को चाकू मारते दिख रहे हैं। कुणाल ने इधर-उधर भागकर अपनी जान बचाने का भी प्रयास किया, लेकिन वह कामयाब नहीं हो सका।

आरोपियों ने उसके सिर, गर्दन, सीने, पेट और शरीर के अन्य हिस्सों में दर्जनभर से अधिक चाकू मारे। इस दौरान भीड़ तमाशबीन रही। वारदात के बाद लोगों ने परिवार को मामले की सूचना दी। खबर मिलते ही भाई रवि स्कूटी लेकर मौके पर पहुंचा। एक अन्य युवक की मदद से स्कूटी पर बिठाकर मैक्स अस्पताल पहुंचा, लेकिन वहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। पुलिस उपायुक्त अतुल कुमार ठाकुर ने बताया कि 9.30 बजे उनकी टीम को सूचना मिली थी। पुलिस ने शव कब्जे में लेकर मोर्चरी भेज दिया, हत्या का मामला दर्ज कर छानबीन शुरू कर दी गई है।

भुमिया चौक, मदनगीर चलती हई सड़क पर आरोपियों ने कुणाल को चाकू से गोद डाला। वैसे तो दिल्ली में लॉक डाउन लगा है, लेकिन बावजूद इसके वहां खासी चहल-पहल थी। वारदात के समय जब आरोपी कुणाल पर हमला कर रहे थे, लोग वहां मौजूद थे। लेकिन किसी ने भी हिम्मत दिखाकर आरोपियों को रोकने का प्रयास नहीं किया। और तो और वारदात के बाद आरोपी जब वहां से चले गए तो कुणाल आखिरी सांस तक वहां तड़पता रहा। लोग अपने-अपने मोबाइल से वीडियो बनाने में व्यस्त रहे। खबर मिलने के बाद जब कुणाल का बड़ा भाई रवि वहां पहुंचा तब तक देर हो चुकी थी। रवि स्कूटी पर बीच में बिठाकर एक अन्य युवक की मदद से कुणाल को अस्पताल भी ले गया, लेकिन तब तक काफी देर हो चुकी थी।

सनसनी ऑफ़ इंडिया नेटवर्क