घर के इस हिस्से में छात्र पंकज सिंह को मरकर छह फुट निचे गाड़ दिया था

पुलिस ने लॉ स्टूडेंट पकंज की हत्या के बाद घर में ही गड्ढा खोदकर शव दबाने वाले पूर्व मकान मालिक, उसकी पत्नी और बेटी को गिरफ्तार कर हत्याकांड का खुलासा कर दिया है। जानें क्या थी हत्या की वजह…

सनसनी ऑफ़ इंडिया
दिल्ली से सटे साहिबाबाद की गिरधर एंक्लेव कॉलोनी के एक मकान में कानून के छात्र की हत्या कर शव जमीन में 6 फुट नीचे दफनाने का सनसनीखेज मामला सामने आया है। युवक 9 अक्टूबर से लापता था। सोमवार सुबह जमीन खोदकर शव को क्षत-विक्षत अवस्था में बाहर निकाला गया।

गाजियाबाद जिले की साहिबाबाद पुलिस ने आईएमई कॉलेज के कानून के छात्र पकंज की हत्या करने वाले पूर्व मकान मालिक, उसकी पत्नी और बेटी को गिरफ्तार कर हत्याकांड का खुलासा कर दिया है। पुलिस का कहना है कि छात्र और आरोपी की बेटी के बीच प्रेम संबंध थे। इसलिए छात्र की हत्या कर दी गई। शव को छिपाने के लिए घर में ही गड्ढा तैयार कर दिया था। क्षेत्राधिकारी साहिबाबाद डॉ. राकेश मिश्र ने बताया कि गिरधर एंक्लेव में रहने वाले आईएमई कॉलेज में कानून के छात्र पंकज की लापता की सूचना मिली थी। इसके बाद जांच की गई तो 12 अक्टूबर को छात्र के पूर्व मकान मालिक हरिओम उर्फ मुन्ना के घर में बेसमेंट में खुदाई की गई, जहां से छात्र का शव बरामद हुआ। इसमें पुलिस टीम हत्यारोपियों की तलाश में जुट गई थी। सोमवार सुबह साहिबाबाद रेलवे स्टेशन के पास से पुलिस ने मूलरूप से बिहार के नालंदा में रहने वाले आरोपी हरिओम, उसकी पत्नी सुलेखा और बेटी को गिरफ्तार किया गया।

घर के इस हिस्से में छात्र पंकज सिंह को मरकर छह फुट निचे गाड़ दिया था

शनिवार सुबह परिजनों के कहने पर पुलिस ने कॉलोनी के ही मुन्ना यादव के मकान में बने बेसमेंट के एक कमरे में शक के आधार पर खुदाई शुरू की, लेकिन तीन फुट खोदने के बाद खुदाई बंद कर दी। इसके बाद रविवार को खुदाई की गई, लेकिन कुछ पता नहीं चला। पड़ोसियों और परिजनों के कहने पर सोमवार सुबह फिर खुदाई शुरू कराई गई। सुबह 8:30 बजे खुदाई के दौरान जमीन से 6 फुट नीचे पंकज का शव बरामद हो गया। जिस कमरे से शव बरामद हुआ उस कमरे से पुलिस को डिओडरेंट की पांच खाली शीशी भी बरामद हुई हैं। इसके साथ ही एक केमिकल भी बरामद हुआ है। तीनों कमरों में आरोपी ने फर्श पर सीमेंट की लेप लगाई थी ताकि लगे कि तीनों कमरों की फर्श नई बनाई गई है। लोगों ने बताया कि मुन्ना घर बनाने का काम जानता था, इसलिए उसे फर्श पर सीमेंट की लेप लगाते हुए दिक्कत नहीं हुई। मृतक के भाई मनीष कुमार सिंह की शिकायत पर साहिबाबाद थाने में मुन्ना यादव के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है।

फुटेज नहीं मिली
पंकज की हत्या के आरोपी मुन्ना के घर के सामने सीसीटीवी लगा है। उसमें शनिवार से पहले 15 दिन की फुटेज नहीं है। लोगों ने आशंका जाहिर की है कि आरोपी ने घटना को अंजाम देने के लिए चिप निकाल लिया होगा।

होनहार था पंकज
आईएमई कालेज के शिक्षकों व छात्रों ने बताया कि पंकज होनहार विद्यार्थी था। नवरात्र में नौ दिन व्रत रखा था। पिता नरेंद्र ने बताया कि पंकज तीस हजारी कोर्ट में एक अधिवक्ता के पास वकालत का अभ्यास करने भी जाता था।

छात्र की हत्या करने के आरोप में गिरफ्तार पति, पत्नी और बेटी।

पोस्टमार्टम रिपोर्ट से पता चलेगा किस दिन हुई हत्या
मुन्ना यादव का गिरधर एंक्लेव में जिस स्थान पर मकान है वह गली का सबसे आखिरी छोर है। कोने पर मुन्ना का 50 गज के भूखंड पर चार मंजिला मकान बना हुआ है। जिसमें एक तल पर वह खुद परिवार के साथ रहता था जबकि दो तल पर किराएदार रहते हैं। पंकज भी एक महीने पूर्व इसी मकान के दूसरे तल पर किराएदार रहा था। प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक शव की हालत बेहद खराब हो गई थी। युवक ने लोअर और टीशर्ट पहनी हुई थी। उसका शरीर छोटे गढ्ढे में मुश्किल से डाला गया था। सिर जमीन के बल था और गले पर कट लगा हुआ था। पुलिस का कहना है कि हत्या किस दिन हुई इसका पता पोस्टमार्टम रिपोर्ट से लगेगा।

मृतक छात्र पंकज सिंह का फाइल फोटो

पुलिस पर लापरवाही का आरोप लगाया
पंकज के पिता नरेंद्र सिंह का कहना है कि पुलिस को 10 अक्टूबर को ही पंकज के लापता होने की सूचना दी गई थी इसके बावजूद उसकी गुमशुदगी 12 अक्टूबर को दर्ज की गई है। कॉलोनीवासियों ने बताया कि पंकज के लापता होने के बाद कॉलोनी के गेट पर लगे सीसीटीवी को जांचा गया, तो बुधवार सुबह 9:57 बजे पंकज लोअर-टीशर्ट में सेब खाते हुए अंदर की ओर आते दिखे। कॉलोनीवासियों ने पुलिस को इसकी जानकारी दी। पंकज के परिजनों ने इसकी सूचना पुलिस को दी। पुलिस ने मुन्ना को पूछताछ के लिए बुलाया लेकिन वह नहीं गया। इस दौरान वह फरार हो गया। परिजनों ने पुलिस पर लापरवाही का आरोप लगाया है।

मृतक छात्र पंकज सिंह का फाइल फोटो

पंकज एक महीने मुन्ना यादव के मकान में रहा
परिजनों के मुताबिक पंकज एक महीने पूर्व करीब एक महीने के लिए मुन्ना यादव के मकान में किराए पर रहा था। उसके बच्चों को ट्यूशन भी पढ़ाता था। पंकज जिस साइबर कैफे को चला रहा था उसे पंकज की अनुपस्थिति में मुन्ना के बच्चे संभालते थे। मुन्ना ने पंकज को साइबर कैफे उसे देने को कहा था, लेकिन पंकज ने मना कर दिया। इसके बाद पंकज उनका कमरा खाली कर कॉलोनी निवासी नवीन त्यागी के यहां रहने लगा।

आरोपी लड़की को ट्यूशन पढ़ाता था पंकज
पुलिस ने बताया कि पंकज साहिबाबाद में जीटी रोड स्थित आईएमई कॉलेज से कानून की पढ़ाई करने के साथ कई बच्चों को ट्यूशन भी देता था। आरोपी की बेटी भी पंकज से पढ़ती थी। इसी दौरान पंकज व युवती की दोस्ती हो गई और दोनों के बीच प्रेम संबंध बन गए थे। इसकी जानकारी युवती के परिजनों को मिली तो उन्होंने युवती को पंकज से दोस्ती खत्म करने के लिए कहा और उसकी हत्या की योजना बनाई। इसके लिए आरोपी हरिओम ने अपने घर के बेसमेंट में शव को छिपाने के लिए पहले ही गड्ढा खोद दिया था।

फिल्म दृश्यम की तरह शव को दबाया
बॉलीवुड फिल्म ‘दृश्यम’ की तरह आरोपी ने हत्या के बाद शव को जमीन में दफनाने की योजना बनाई थी। जिससे पुलिस को कोई जानकारी नहीं मिले। लेकिन पुलिस जब उसके घर की जांच कर रही थी तो बेसमेंट में जमीन का हिस्सा कुछ दबा हुआ था। जिसकी खुदाई के बाद शव को बाहर निकाला गया।