होमो सेक्स और ब्लैकमेलिंग के जाल में फंसी कत्ल की कहानी

0

विजय कुमार दिवाकर
सरोजिनी नगर थाना पुलिस ने एक युवक की हत्या के मामले को 40 घंटे के अंदर सुलझाते हुए तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया है। समलैंगिकता और ब्लैकमेलिंग के चलते कत्ल की वारदात को अंजाम दिया गया था। दरअसल, दुकानदार और मृतक नौकर के बीच समलैंगिक रिश्ते थे। मृतक नौकर ने आरोपी दुकानदार का एक अश्लील वीडियो बना लिया था, जिसे लेकर वो उसे ब्लैकमेल कर रहा था। इसी वजह से हत्या की साजिश रची गई। दुकानदार ने अपने भतीजे और उसके दोस्त की मदद से वारदात को अंजाम दिया। गिरफ्तार आरोपियों की पहचान उत्तम नगर निवासी 36 वर्षीय प्रेमवीर उर्फ़ प्रेमी जोकि सरोजिनी नगर मार्केट में कपड़े की दुकान चलाता है , 21 वर्षीय परविंदर और 21 वर्षीय रोहित के रूप में की गई है। परविंदर और रोहित खुर्जा, बुलंदशहर के रहने वाले है। जबकि मृतक की पहचान झारखंड निवासी 22 वर्षीय शमशेर खान उर्फ़ अली के रूप में हुई है।

साउथ वेस्ट दिल्ली के डीसीपी गौरव शर्मा ने बताया कि 29 जनवरी 2022 को थाना सरोजिनी नगर में एक युवक के बेहोश पड़े होने के बारे में सूचना मिली थी। जानकारी मिलते ही पुलिस टीम मौके पर पहुंची। पुलिस टीम ने जब बेहोश व्यक्ति को हिलाया डुलाया तो पता पड़ा की व्यक्ति मृत है। मृत व्यक्ति के गले पर निशान मिला जिसको देखने से लग रहा था की किसी ने उसका गला दबाकर मारकर यहां फेक दिया है क्योंकि मौके पर किसी भी प्रकार के स्ट्रगल के निशान नहीं थे। पुलिस टीम के लिए यह एक पहला क्लू था जिसके आधार पर थाना सरोजिनी नगर में हत्या का मामला दर्ज कर investigation शुरू कर दी। मौके से मृत व्यक्ति के शव के पास कोई आईडी प्रूफ नहीं मिला था।

साउथ वेस्ट दिल्ली के डीसीपी गौरव शर्मा ने ब्लाइंड मर्डर की गुत्थी सुलझाने के लिए वीकेपीएस यादव एसीपी सफदरजंग एन्क्लेव की supervision व देवेंद्र कौशिक एसएचओ सरोजनी नगर थाना के नेतृत्व में एटीओ विनीत मलिक, एएसआई प्रवीण, एएसआई राजेश और कांस्टेबल संदीप की एक टीम का गठन किया।

जाँच टीम की काफी कोशिशों के बाद शव की पहचान झारखंड निवासी 22 वर्षीय शमशेर खान अली के रूप में हुई। जो दिल्ली की सरोजनी नगर मार्केट स्थित प्रेमवीर उर्फ़ प्रेमी नामक दुकानदार की दुकान पर काम करता था।

पुलिस ने शव मिलने वाले स्थान पर लगे सीसीटीवी फुटेज को खंगाला । पुलिस टीम को जांच में ये भी पता लगा कि मृतक शमशेर खान को आखिरी बार दुकान मालिक प्रेमबीर के साथ देखा गया था। प्रेमबीर सीसीटीवी फुटेज में सरोजनी नगर मेट्रो स्टेशन के पास उस जगह पर देखा गया था, जहां से कुछ दूरी पर उसके नौकर शमशेर खान का शव मिला था। मोबाइल सर्विलांस में भी यही बात सामने आई। सीसीटीवी फुटेज के आधार पर दुकान मालिक प्रेमबीर से सख्ती से पूछताछ की तो उसने काफी चौंकाने वाले खुलासे किये।

दुकान मालिक प्रेमबीर उर्फ ​​प्रेमी ने खुलासा किया की उसके अपने नौकर शमशेर खान के साथ समलैंगिक रिश्ते थे। उसके नौकर ने शमशेर खान ने उसके साथ अवैध सबंध बनाते समय गुपचुप तरीके से उसका वीडियो रिकॉर्ड कर लिया था। मृतक शमशेर खान दुकान मालिक प्रेमबीर उर्फ ​​प्रेमी को ब्लैकमेल कर दो लाख रुपये की मांग कर रहा था और पैसे नहीं देने पर वह वीडियो को सोशल मीडिया पर वायरल करने की धमकी दे रहा था। ब्लैकमेलिंग से परेशान होकर दुकान मालिक प्रेमबीर ने अपने नौकर शमशेर खान की हत्या की साजिश रची। योजना को अंजाम देने के लिए दुकान मालिक प्रेमबीर ने यूपी के खुर्जा जिला निवासी अपने भतीजे परविन्द्र से मदद मांगी और उसे दिल्ली बुलाया।

28 जनवरी 2022 की शाम प्रेमबीर का भतीजा परविन्द्र अपने दोस्त रोहित के साथ खुर्जा से टैक्सी बुक कर दिल्ली आया था।

आरोपी प्रेमबीर ने युसूफ सराय मंदिर वाली गली में स्मार्ट इन होटल के सामने 21 एल , मांगे लाल जिंदल कॉम्प्लेक्स में एके गेस्ट हाउस की तीसरी मंजिल पर ए 3 और ए 4 नंबर के दो कमरे बुक किये। प्लान के मुताबिक प्रेमबीर का भतीजा परविन्द्र और उसका दोस्त रोहित कमरे में रुके थे जबकि प्रेमबीर मृतक शमशेर खान को लेने सरोजिनी नगर बाजार गए था। प्रेमबीर के भतीजे परविन्द्र और उसके दोस्त रोहित ने गेस्ट हाउस में कपडे टांगने के लिए बंधी नायलॉन की रस्सी को खोलकर अपने पास रख लिया। लगभग 8:30 बजे प्रेमबीर अपने नौकर शमशेर खान उर्फ ​​अली के साथ गेस्ट हाउस पंहुचा। गेस्ट हाउस पहुंचकर आरोपी प्रेमबीर मृतक शमशेर खान के साथ बैठकर बात करने लगा तभी योजनानुसार पीछे से आकर परविन्द्र ने नायलॉन की रस्सी से शमशेर खान का गला घोंट दिया और रोहित ने भी मफलर से उसका गला दबा दिया। 5 10 मिनट की स्ट्रगल के बाद उन सभी ने मृतक पर काबू पा लिया। डेड बॉडी को ठिकाने लगाने के लिए शव को एक बड़े आकार के ट्रॉली बैग में रखने लगे। लेकिन शव सूटकेस में फिट नहीं हो रहा था। उन्होंने मृतक शमशेर खान के जूते और जैकेट उतार कर शव को ट्रॉली बैग में रखा। शव को ट्रॉली बैग में रख कर उसी टैक्सी में लाद दिया, जिसे खुर्जा से पविंदर ने किराए पर लिया था। टैक्सी को सरोजनी नगर बाजार की ओर ले जाकर सरोजनी नगर मेट्रो स्टेशन के पास एक सुनसान जगह पर ट्रॉली बैग को फेंक दिया और उसे प्लास्टिक की चादर से ढक दिया।

कत्ल की वारदात अंजाम देने के बाद दोनों प्रेमवीर के साथ ही खुर्जा वापस चले गए और अपने साथ मृतक का मोबाइल, पर्स और दूसरा सामान भी ले गए। कुछ सामान उत्तम नगर ईस्ट मेट्रो स्टेशन के पास फेंक दिया।

दिल्ली पुलिस के अफसरों ने दोनों आरोपियों की तलाश में खुर्जा में भी छापेमारी की और दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया। आरोपियों ने बताया कि वो 19 जनवरी को ही शमशेर को मारना चाहते थे, लेकिन उस दिन दिल्ली में पुलिस की ज्यादा तैनाती के चलते ऐसा नहीं कर पाये। जिस टैक्सी में ये शव को ले गए थे, उसके ड्राइवर ने पुलिस को बताया कि आरोपियों ने उससे कहा था कि ट्रॉली बैग में कपड़े हैं।

आरोपी व्यक्तियों ने खुलासा किया कि उन्होंने 19 जनवरी को पीड़िता को मारने की योजना बनाई थी, लेकिन पुलिस की भारी तैनाती को देखकर अपनी योजना टाल दी और 28 और 29 जनवरी की मध्यरात्रि में इसे अंजाम दिया। टैक्सी चालक 24 वर्षीय ने पुलिस को बताया कि आरोपियों ने उससे कहा था कि ट्रॉली बैग में कपड़े हैं। मुख्य आरोपी प्रेमवीर की सरोजिनी नगर में कपड़े की दुकान है और वो शादीशुदा है। उसके दो बच्चे भी हैं। आरोपी पविंदर आईटीआई कर चुका है और अभी स्नातक कर रहा है, जबकि तीसरा आरोपी रोहित पेशे से पेंटर है। फिलहाल इस पूरे हत्याकांड में पुलिस ने तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है और उनके खिलाफ हत्या का मामला दर्ज कर लिया गया है।

सनसनी ऑफ़ इंडिया नेटवर्क