चोरी का मोबाइल आया वाई-फाई की रेंज में, शातिर स्नैचर गिरफ्तार

0

विजय कुमार दिवाकर
दक्षिणपूर्व जिले के स्पेशल स्टाफ ने दिल्ली में जगह जगह लगे फ्री वाई फाई की मदद से एक शातिर मोबाइल स्नैचर को धर दबोचा है। आरोपी मोबाईल स्नैचिंग के तुरन्त बाद सीम को तोड़कर फेक देता था और साथ फोन को फार्मेट भी कर लेता था। आरोपी से चोरी का एक फोन ऑन रह गया था। फोन ऑन होते ही दिल्ली सरकार के लगे फ्री वाई फाई की रेंज में आने से ऑटोमेटिक कनेक्ट हो गया और आरोपी दबोचा गया। आरोपी की पहचान इस्माइलपुर, फरीदाबाद हरियाणा निवासी 28 वर्षीय दीपक उर्फ दीपू के रूप में हुई। आरोपी के पास से स्नैचिंग के चार मोबाईल फोन बरामद हुए हैं।

दक्षिणपूर्व जिले में मोबाइल चोरी और लूट करने वाले स्नैचर ने आंतक मचा रखा था। दक्षिण पूर्व जिले में स्नैचिंग की घटनाओं पर अंकुश लगाने व स्नैचर को जल्द से जल्द दबोचने के लिए दक्षिणपूर्व जिले की डीसीपी ऐशा पाडें ने स्पेशल स्टाफ के एसआई प्रदीप, एएसआई राजबीर, श्यामवीर, हैड कांस्टेबल प्यारेलाल, पवन, कांस्टेबल प्रवेश, विपिन और सोनू की एक टीम का गठन किया।

दक्षिणपूर्व जिले की स्पेशल स्टाॅफ पुलिस टीम ने सबसे पहले दिल्ली एनसीआर में सक्रिय कुख्यात मोबाइल चोरों के बारे में जानकारियां इकट्ठा कर उन पर निगरानी शुरू की और साथ ही दिल्ली एनसीआर में मुखबिरों का जाल बिछा दिया। स्पेशल स्टाॅफ की एक टीम दक्षिणपूर्व जिले से चोरी हुये मोबाईलो की आईएमईआई नंबर को सर्विलांस पर लगाकर नजर रखने लगी।

जांच में स्पेशल स्टाॅफ की टैकनिकल टीम को पता चला की हाल ही के दिनों में दक्षिणपूर्व जिले से चोरी हुए मोबाईलों में से एक मोबाईल वाई फाई इंटरनेट की रेंज में आकर एक्टीव हुआ है।

टीम ने तुंरत मोबाईल को इलेक्ट्रॉनिक सर्विलांस पर लगाकर मोबाईल में एक्टीव वाई फाई इंटरनेट के आईपी एड्रैस से लोकेशन ट्रैक करना शुरू कर दिया।

चोरी हुए मोबाइल की लोकेशन आश्रम की तरफ से मदनपुर खादर की तरफ आती हुई दिखाई दे रही थी।

दक्षिणपूर्व जिले की डीसीपी ऐशा पाडें आरोपी को दबोचने का यह मौका हाथ से नहीं निकलने देना चाहती थी। डीसीपी ऐशा पाडें की सुपरविजन में मदनपुर खादर की रेड लाइट पर चारों तरफ से घेराबन्दी कर स्पेशल स्टाॅफ के एसआई प्रदीप, एएसआई राजबीर, श्यामवीर, हैड कांस्टेबल प्यारेलाल, पवन, कांस्टेबल प्रवेश, विपिन और सोनू ने अपना जाल बिछा दिया।

थोड़ी देर बाद एक सस्पेक्ट व्यक्ति पॉलीथिन का थैला लेकर मदनपुर खादर की रेड लाईट की तरफ आता दिखाई दिया। स्पेशल स्टाफ की टेकनिकल टीम ने इशारा दिया की चोरी के मोबाईल की लोकेशन सस्पेक्ट व्यक्ति के पास से आ रही है।

टीम ने तुरंत सस्पेक्ट व्यक्ति को दबोच लिया। उसके पॉलीथिन बैग की जांच करने पर उसमें चार मोबाइल फोन मिले। उन मोबाइल फोन के मालिकाना हक के बारे में पूछने पर सस्पेक्ट व्यक्ति कोई संतोषजनक जवाब नहीं दे सका।

पूछताछ करने पर सस्पेक्ट व्यक्ति की पहचान इस्माइलपुर, फरीदाबाद हरियाणा निवासी 28 वर्षीय दीपक उर्फ दीपू पुत्र अर्जुन सिंह के रूप में हुई। जांच में आरोपी नेे बताया कि उसने बदरपुर, पुल प्रहलादपुर और गोविंदपुरी इलाकों में मोबाईल चोरी की वारदातों को अंजाम दिया है। आरोपी के पास से चोरी के चार मोबाईल फोन बरामद हुए है। जांच में पता चला कि आरोपी आदतन अपराधी है इसके खिलाफ पहले भी चोरी के दो मामले दर्ज हैं।

पूछताछ में आरोपी ने बताया की उसने 10वीं तक पढ़ाई की है। आजीविका कमाने के लिए उसके पास करने के लिए कुछ नहीं है।

आरोपी ने पूछताछ में बताया कि वो मोबाईल स्नैचिंग के तुरन्त बाद सीम को तोड़कर फेक देता था और साथ फोन को फार्मेट भी कर लेता था।

जांच टीम ने बताया कि आरोपी ने चोरी के मोबाईल फोन से सीम निकालकर फोन फार्मेट कर दिये थे लेकिन चोरी का एक फोन ऑन रह गया था। फोन ऑन होते ही दिल्ली सरकार के लगे फ्री वाई फाई की रेंज में आने से ऑटोमेटिक कनेक्ट हो गया था। दक्षिणपूर्व जिला स्पेशल स्टाॅफ की टैकनिकल टीम ने वाई फाई के आईपी एड्रैस की लोकेशन की मदद से आरोपी को दबोच लिया।

सनसनी ऑफ इंडिया नेटवर्क