2000 रुपए की डाली डकैती, अब जेल में कटेंगे दस साल

0

विजय कुमार दिवाकर
जैतपुर थाना पुलिस ने दो हजार रूपयों की डकैती के मामले मे एक ऐसे आरोपी को दबोचा है जो आदतन अपराधी है व डकैती और चोरी के लगभग 16 मामलों मे जेल जा चुका है। अपराधी हाल ही के दिनों में फरीदाबाद की जेल से जमानत पर बाहर आया था लेकिन आरोपी ने अपनी नशे की लत को पूरा करने के लिए अपने एक साथी के साथ मिलकर एक और डकैती की वारदात को अंजाम दे डाला। आरोपियों की पहचान 26 वर्षीय बलजीत सिंह उर्फ मोटा व 22 वर्षीय हुसैन खान के रूप में हुई है। दोनों बदरपुर में जैतपुर के रहने वाले है।

दक्षिण पूर्व जिला डीसीपी ईशा पांडेय ने बताया की दिनांक आठ मार्च 2022 को थाना जैतपुर में दयाल सिंह मार्केट, जैतपुर गांव, मैन खड्डा काॅलोनी रोड़, बदरपुर नई दिल्ली
स्थित गुरू नानक गार्डन के एक कर्मचारी के साथ डकैती की एक काॅल आई थी। डकैती की काॅल मिलते ही थाना जैतपुर पुलिस स्टाफ मौके पर पहुंचा।

मौके पर शिकायतकर्ता ने पुलिस को बताया की वह गुरू नानक गार्डन की देखभाल करता है। आठ मार्च 2022 की देर रात गार्डन में शादी समारोह खत्म होने के बाद वो गार्डन का गेट बंद कर रहा था तभी दो लड़के आए और उससे डीजे की फीस के बारे में पूछताछ के बहाने से जबरजस्ती गार्डन में घुस गए। और डरा धमकाकार उससे दो हजार रूपये लूटकर जान से मारने की धमकी देकर फरार हो गये।

उगेश कुमार एसएचओ थाना जैतपुर ने तुरंत ही थाना जैतपुर में एफआईआर संख्या 161/2022 अंडर सेक्शन 394,506,34 के तहत मामला दर्ज कर फरार बदमाशों को दबोचने के लिए छापेमारी शुरू कर दी।

डीसीपी ईशा पांडेय का दक्षिण पूर्व जिले में क्रिमिनलों को क्लियर सन्देश है की क्राइम छोटा हो या बड़ा क्रिमिनलों को किसी भी कीमत पर बक्शा नहीं जायेगा। क्रिमिनल अपने दिमाग से गलतफहमी निकाल दे की अपराध करके वो बच जायेगा। क्राइम को अंजाम देने वाले क्रिमिनल के साथ साथ क्राइम में क्रिमिनल की मदद करने वाले किसी को भी बक्शा नहीं जायेगा।

डीसीपी ईशा पांडेय ने अपराधियों को हर हाल में दबोचने के लिए बदरपुर के तेजतर्रार एसीपी अजय कुमार की सुपरविजन व उगेश कुमार एसएचओ जैतपुर के नेतृत्व में एसआई सतनारायण, हैड कांस्टेबल जगजीत, आंनद, सियाराम, कांस्टेबल अरूण व ललितकांत की एक क्रेक टीम का गठन किया।

आरोपियों की पहचान के लिए जांच टीम ने सबसे पहले गार्डन में लगे सीसीटीवी कैमरों को खंगाला। लेकिन गार्डन के अन्दर लगा कैमरा खराब होने की वजह से वारदात कैमरे में कैद नहीं हुई। वारदात देर रात की थी इसलिए क्राईम सीन के आसपास लगे बाकी सीसीटीवी कैमरों में भी अन्धेरा होने की वजह से आरोपियों की पहचान नहीं हो सकी। इलाके में मुखबिरों को एक्टीव किया लेकिन मुखबिरों से भी कोई क्लू नहीं मिला।

इलाके में शांति और आमजन का कानून के प्रति विश्वास बनाए रखने के लिए एसीपी अजय कुमार ने वारदात को चुनौती के रूप में लेते हुए आरोपियों को दबोचने के लिए दूसरे एंगल पर काम करना शुरू कर दिया।

एसीपी अजय कुमार की सुपरविजन में एसएचओ उगेश कुमार ने घटना वाली रात का मोबाईल डम्प डाटा निकाला। मोबाईल डम्प डाटा स्कैन करने पर जांच टीम को क्राईम सीन के पास सस्पेक्ट दो मोबाइल नंबर मिले जोकि वारदात वाले दिन से ही बंद थे।

एसीपी अजय कुमार ने बंद पड़े दोनो मोबाईल नंबरों की काॅल हिस्ट्री खंगाली तो पता चला की उनमें से एक मोबाईल नंबर इलाके के घोषित बदमाश बलजीत सिंह उर्फ मोटा का है।

टीम ने बलजीत सिंह उर्फ मोटा को दबोचने के लिए छापेमारी की तो पता चला की वारदात वाले दिन से ही आरोपी अपने घर नहीं आया है।

एसएचओ उगेश कुमार ने आरोपी के घर के आसपास मुखबिरों का जाल बिछा दिया।

दिनांक नौ मार्च 2022 को एसएचओ उगेश कुमार को मुखबिरों से सूचना मिली कि आरोपी बलजीत सिंह उर्फ मोटा अपने परिवार से मिलने के लिए जैतपुर गांव भगत सिंह चौक पर आने वाला है। सूचना मिलते ही जांच टीम ने भगत सिंह चौक पर अपना जाल बिछा दिया। काफी देर इंतजार करने के चेहरा छुपाये एक सस्पेक्ट व्यक्ति भगत सिंह चौक पर आता दिखाई दिया। मुखबिर के इशारा करने पर टीम ने आरोपी को दबोच लिया। आरोपी की पहचान बदरपुर जैतपुर गांव निवासी 26 वर्षीय बलजीत सिंह उर्फ मोटा पुत्र गुरदीप सिंह के रूप में हुई।
कड़ी पूछताछ में आरोपी ने डकैती की वारदात को अंजाम देने की बात कबूल कर ली।

आरोपी की निशानदेही पर टीम ने दूसरे आरोपी को भी दबोच लिया।

दूसरे आरोपी की पहचान सौरभ विहार जैतपुर गांव निवासी 22 वर्षीय हुसैन खान पुत्र फरीद अली के रूप में हुई है।

लगातार पूछताछ करने पर दोनों आरोपियों ने खुलासा किया कि उनके पास अपने खर्चे पुरे करने के लिए कोई काम धंधा नहीं है। उन्हें शराब और नशीली दवाओं की लत है। दोनों आरोपियों ने बताया कि नशे की लत को पूरा करने के लिए अपराध करना शुरू कर दिया।

जांच में पुलिस टीम को पता चला कि आरोपी बलजीत सिंह उर्फ मोटा 10वीं तक पढ़ा है। वह बेरोजगार और नशे का आदी है। इसकी लंबी क्राइम हिस्ट्री है यह पहले भी डकैती और चोरी के 16 मामलों में गिरफ्तार हो चुका है। हाल ही के दिनों में फरीदाबाद जेल से जमानत पर छूटकर आया है।

दूसरा आरोपी हुसैन खान ने 9वीं तक पढ़ाई की है। यह भी बेरोजगार है। इसकी पहले की कोई क्राइम हिस्ट्री नहीं है।

आरोपियों के पास से वारदात में लुटे दो हजार रूपये भी बरामद हो गये है।

सनसनी ऑफ इंडिया नेटवर्क