बचपन से करता आ रहा था पिकपॉकेटिंग, चढ़ ही गया पुलिस के हत्थे

0

विजय कुमार दिवाकर
दक्षिण दिल्ली स्पेशल स्टाफ ने कुख्यात छोटू गैंग की जेब कतरों की एक ऐसी सक्रिय जोड़ी को दबोचा है जिसका एक सदस्य बचपन से ही जेब कतरों की गैंग से जुड़ा हुआ था और अभी तक पुलिस को चकमा देकर गिरफ्तारी से बचता आ रहा था लेकिन इस बार पुलिस के हत्थे चढ़ ही गया। गिरफ्तार जेब कतरों की पहचान शमशाद व आरिफ के रूप में हुई है। दोनों आरोपी 18 वर्ष के और संगम विहार दिल्ली के रहने वाले है। दोनों आरोपियों की गिरफ्तारी से थाना
डिफेंस कॉलोनी, संगम विहार, हौज खास, अंबेडकर नगर, साकेत और कोटला मुबारक पुर में दर्ज मोबाइल चोरी के छह मामले सुलझ गए हैं।

दक्षिण दिल्ली में मोबाइल चोरी करने वाले एक पिक पॉकेटिंग गैंग ने आंतक मचा रखा था। यह गैंग राह चलते लोगो खासतौर पर महिलाओं को टारगेट करके मोबाइल चोरी की वारदातों को अंजाम देता था।

दक्षिण जिला डीसीपी बेनीटा मेरी जैकर ने दक्षिण दिल्ली में झपटमारी और मोबाइल चोरी की वारदातों पर अंकुश लगाने और आरोपियों को जल्द से जल्द दबोचने का काम राजेश कुमार एसीपी ऑपरेशंस की सुपरविजन व अतुल त्यागी इंस्पेक्टर स्पेशल स्टाफ दक्षिण जिला के नेतृत्व में एएसआई जोगिन्दर सिंह, हेड कांस्टेबल संजय कुमार, रोशन कुमार व कांस्टेबल अशोक कुमार की एक टीम को सौंपा।

स्पेशल स्टाफ दक्षिण दिल्ली के अनुभवी और तेजतर्रार इंस्पेक्टर अतुल त्यागी ने सबसे पहले दक्षिण दिल्ली में Pick pocketing और theft की वारदातों को अंजाम देने वाले आरोपियों की modus operandi को analyzed किया। क्राइम और क्रिमिनलों की modus operandi से जाँच टीम को पता चला की ​​छोटू गैंग में सक्रिय पिकपॉकेट की एक जोड़ी ने वारदातों को अंजाम दिया है।

आरोपियों की पहचान होते ही आरोपियों को दबोचने के लिए इंस्पेक्टर अतुल त्यागी ने मुखबिरों का जाल बिछा दिया।

दिनांक नौ मार्च 2022 को अतुल त्यागी इंस्पेक्टर स्पेशल स्टाफ दक्षिण दिल्ली को मुखबिरों से सीक्रेट इनफार्मेशन मिली की कुख्यात छोटू गैंग के दो सक्रिय जेब कतरें चोरी किये मोबाइल फोन को बेचने के लिए खानपुर टी प्वाइंट पर आएंगे।

इनफार्मेशन मिलते ही टीम ने खानपुर टी प्वाइंट के पास strategic trap लगाया। थोड़ी देर बाद दो सस्पेक्ट व्यक्ति बाइक पर आते हुए दिखाई दिए। पुलिस टीम ने उन्हें रुकने का इशारा किया लेकिन पुलिस टीम को देखकर सस्पेक्ट व्यक्तियों ने यू टर्न लेकर भागने की कोशिश की लेकिन पुलिस टीम ने दौड़कर बाइक को गिराकर दोनों सस्पेक्ट व्यक्तियों को दबोच लिया। तलाशी लेने पर सस्पेक्ट व्यक्तियों के पास से छह मोबाइल फोन मिले। उन मोबाइल फोन के मालिकाना हक के बारे में पूछने पर सस्पेक्ट व्यक्ति कोई संतोषजनक जवाब नहीं दे सके।

कड़ी पूछताछ में आरोपियों ने बताया किया की वो कुख्यात फिरोज उर्फ ​​छोटू गैंग के सक्रिय सदस्य हैं। साथ ही दोनों आरोपियों ने दक्षिण दिल्ली में मोबाइल चोरी की कई वारदातों को अंजाम देने की बात भी कबूल की। गिरफ्तार आरोपियों की पहचान शमशाद व आरिफ के रूप में हुई है।

पहला आरोपी 18 वर्षीय शमशाद पुत्र नसीम अंसारी के ब्लॉक, संगम विहार, नई दिल्ली का रहने वाला है। इसने 12वीं कक्षा तक पढ़ाई की है। यह शॉर्टकट रास्ते से जल्दी पैसा कमाने के लालच में बुरी संगत में पड़ गया और अपराध करने लगा। आरोपी बचपन से ही पिक पॉकेट्स के गिरोह में काम करता था लेकिन पहली बार गिरफ्तार हुआ है।

दूसरा आरोपी 18 वर्षीय आरिफ पुत्र फखर आलम भी के ब्लॉक, संगम विहार, नई दिल्ली का रहने वाला है। यह एक स्कूल ड्रॉपआउट था। यह जेब कतरों की गैंग से जुड़ा हुआ था और यह भी पहली बार गिरफ्तार हुआ है।

दोनों आरोपियों की गिरफ्तारी से थाना डिफेंस कॉलोनी, संगम विहार, हौज खास, अंबेडकर नगर, साकेत और कोटला मुबारक पुर में दर्ज मोबाइल चोरी के छह मामले सुलझ गए हैं। आरोपियों से आगे की पूछताछ जारी है।

स्पेशल स्टाफ दक्षिण दिल्ली टीम को इस good work के लिए उचित पुरस्कार दिया जा रहा है।

सनसनी ऑफ़ इंडिया नेटवर्क