• दिल्ली पुलिस ने एक सेंधमार को अरेस्ट किया है जिसने चोरी करके राजधानी में 2 महंगे फ्लैट बना लिए थे
  • पुलिस उसके घर जाकर हैरान रह गई क्योंकि उसके घर में महंगे गैजेट्स और कई होम अप्लाइंसेज मिले
  • पुलिस ने सेंधमार खय्यूम और उसके बड़े भाई अयूब को अरेस्ट किया है जो कि पिक-ड्रॉप दिलाता था
  • दोनों की गिरफ्तारी से पूर्वी दिल्ली में हुई सेंधमारी की 65 घटनाओं का खुलासा हुआ है

सनसनी ऑफ़ इंडिया
नई दिल्ली
दिल्ली पुलिस ने 2 ऐसे करोड़पति चोर भाईयों की जोड़ी को गिरफ्तार किया जिसने ईस्ट दिल्ली में पिछले कुछ समय से चोरी की घटनाओं से आतंक मचाया हुआ था.आरोपियों की पहचान कय्यूम (30) और अय्यूब (40) के रूप में हुई है.पुलिस ने आरोपियों के पास से 27 लाख रुपए कैश और एक करोड़ रुपये का सोना (2.25 किलोग्राम), 53 मास्टर की, लाखों रुपये का सामान बरामद किया है.आरोपियों ने चोरी के माल से कबीर नगर में 47 लाख और यमुना विहार में 65 लाख रुपये के दो मकान भी खरीद लिये थे. पुलिस ने दोनों की गिरफ्तारी से चोरी के 64 मामले सुलझाने का दावा किया है.पुलिस अधिकारियों का कहना है कि पिछले कुछ महीनों से आरोपी यमुनापार में 100 से अधिक चोरी की वारदातों को अंजाम दे चुके हैं.आरोपी सभी वारदातों को दिनदहाड़े अंजाम देते थे. ईस्ट दिल्ली के डीसीपी जसमीत सिंह ने बताया कि पिछले कुछ दिनों से इलाके में दिनदहाड़े चोरी की वारदातें हो रही थी.कई मामलों में पुलिस के हाथ सीसीटीवी फुटेज लगी, जिनमें आरोपी साफ दिखाई देते थे, लेकिन उनकी पहचान नही हो पाती थी. लोकल पुलिस के अलावा डिस्ट्रिक्ट के स्पेशल स्टॉफ की टीम को जांच में लगाया गया.काफी छानबीन के बाद शुक्रवार को मिली कि वारदातों में शामिल आरोपी कड़कडड़ूमा कोर्ट के पास आने वाले हैं. सूचना के बाद पुलिस की टीम ने दोनों आरोपी कय्यूम और अय्यूब को दबोच लिया. दोनों नंद नगरी इलाके रहने वाले हैं.

दिनदहाड़े ही देता था कय्यूम चोरी की वारदातों को अंजाम
बचपन में ही पढ़ाई छोड़कर कय्यूम ने चोरी की वारदातों को अंजाम देना शुरू कर दिया था.आरोपी चोरी करने में बेहद माहिर है, वह दिन में ही चोरी की वारदातों को अंजाम देता है.वारदातों को सिर्फ यमुनापार इलाके में ही अंजाम दिया जाता है.कय्यूम वारदात को अंजाम देने से पहले पड़ोसियों से चुपचाप पूछताछ कर टारगेट वाले मकान में घुस जाता था.अय्यूब घटना स्थल से कुछ खड़ा होकर वहां नजर रखता था.खतरा होने पर वह कय्यूम को खबर कर देता था.ज्यादातर मामलों में कय्यूम मास्टर की से घर का ताला खोल लेता था.ताला न खुलने की सूरत में बाद में अय्यूब की मदद से ताला तोड़ दिया जाता था.

साल 2015 पहली बार गिरफ्तार हुआ कय्यूम
कय्यूम बहुत शातिर तरीके से वारदात को अंजाम देता था.साल 2015 में वह पहली बार आरोपी गिरफ्तार हुआ.कय्यूम एक मकान में चोरी करने घुस गया.वहां एक लड़की मौजूद थी.कय्यूम को देखकर उसने शोर मचााया तो आरोपी को रंगे हाथों पकड़ लिया गया.कय्यूम के खिलाफ पहले से 13 मुकदमे दर्ज है.आखिरी बार वह मई 2015 में गिरफ्तार हुआ था.. जेल से आने के बाद उसने 100 से अधिक वारदातों को अंजाम दिया. 64 मामले को पुलिस सुलझाने का दावा कर रही है.वहीं अय्यूब भी 2014 में एक बार गिरफ्तार हो चुका है

चोरी के माल से बना ली करोड़ों की संपत्ति
कय्यूम और अय्यूब ने चोरी के माल से करोड़ों की संपत्ति बना ली है.. कबीर नगर और यमुना विहार में आरोपियों ने पिछले दिनों दो मकान खरीदे.बाद में इन मकानों में काम करवाकर दोनों भाईयों ने घर में बढिय़ा इलेक्ट्रॉनिक्स का सामान खरीदकर रखवाया.पुलिस ने आरोपियों के पास से 27 लाख कैश, 2.25 किलो सोना, 405 ग्राम चांदी, 11 हाथ की घडिय़ां, सात मोबाइल फोन, 53 मास्टर की और भारी मात्रा में इलेक्ट्रॉनिक सामान बरामद किया है.दोनों की प्रॉपर्टी की पुलिस छानबीन कर रही है.