नाबालिग बच्चों की आड़ में करता था स्नैचिंग, गिरफ्तार

0

विजय कुमार दिवाकर
दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच स्टार्स वन यूनिट ने दिल्ली के आली गांव इलाके से एक ऐसे शातिर स्नैचर और ऑटो लिफ्टर को दबोचा है जो दिल्ली एनसीआऱ में स्नैचिंग और ऑटो लिफ्टिंग के साथ pick pocketing के लिए नाबालिग बच्चों का गैंग भी ऑपरेट करता था। आरोपी का भाई भी शातिर स्नैचर है जोकि डिफेंस कॉलोनी थाना पुलिस स्टाफ पर गोली चलाने के आरोप में जेल में बंद है। आरोपी का साला सरिता विहार थाने का बीसी है। गिरफ्तार आरोपी की पहचान गौतमपुरी फेज टू बदरपुर निवासी 26 वर्षीय बाबू के रूप में हुई है। आरोपी से चोरी की दो स्कूटी, एक मोटरसाइकिल और चार मोबाइल फ़ोन्स बरामद हुये हैं।

क्राइम ब्रांच डीसीपी राजेश देयो ने बताया की क्राइम ब्रांच की स्टार्स वन टीम को दिल्ली एनसीआर में एक्टिव स्नैचर पर नजर रखने का काम सौंपा गया है। स्टार्स वन टीम ने अच्छा काम करते हुए दिल्ली एनसीआर में स्नैचिंग और ऑटो लिफ्टिंग की वारदात को अंजाम देने वाले several criminals को दबोचा है।

क्राइम ब्रांच की स्टार्स वन टीम के तेज तर्रार इंस्पेक्टर नरेश सोलंकी को दिल्ली एनसीआर में स्नैचिंग और ऑटो लिफ्टिंग के कई मामलों में शामिल एक शातिर स्नैचर के बारे में एक सीक्रेट इनफार्मेशन मिली।

इंस्पेक्टर नरेश सोलंकी ने एसीपी स्टार्स वन संतोष कुमार के साथ सीक्रेट इनफार्मेशन shared की।

एसीपी स्टार्स वन संतोष कुमार ने सीक्रेट इनफार्मेशन से क्राइम ब्रांच के वरिष्ठ अधिकारीयों को अवगत कराया।

इनफार्मेशन मिलते ही शातिर स्नैचर को दबोचने के लिए राजेश देव डीसीपी क्राइम ब्रांच स्टार्स वन एंड एसआईयू ने संतोष कुमार एसीपी स्टार्स वन की supervision और इंस्पेक्टर नरेश सोलंकी के नेतृत्व में एसआई कृष्ण कुमार, एसआई उदयवीर सिंह, हेड कांस्टेबल दीपक, कांस्टेबल सूर्य देव, घनश्याम, ओमप्रकाश और धीरज की एक टीम का गठन किया।

टीम ने सस्पेक्ट स्नैचर को दबोचने के लिए मुखबिरों का जाल बिछाया। टीम ने टेक्नीकल और मेनुअल तरीके से भी शातिर स्नैचर पर नजर रखनी शुरू कर दी।

दिनांक दो जनवरी 2022 को secret informer ने टीम को इनफार्मेशन दी की सस्पेक्ट स्नैचर दोपहर के समय आली गांव के खेल मैदान में चोरी के वाहन के साथ आएगा।

secret informer से इनफार्मेशन मिलते ही टीम ने दोपहर के समय आली गांव के खेल मैदान के पास अपना जाल बिछाया। दोपहर लगभग तीन बजकर 45 मिनट पर suspect एक स्कूटी पर आता दिखाई दिया। टीम ने suspect को रुकने का इशारा किया पुलिस टीम को देखकर suspect ने मौके से भागने का प्रयास किया लेकिन टीम ने दौड़कर suspect को दबोच लिया।

suspect आरोपी की पहचान बदरपुर गौतमपुरी फैज सेकंड मकान नंबर बी 989 निवासी 26 वर्षीय बाबू पुत्र राम धानी के रूप में हुई।

मौके से आरोपी जिस स्कूटी के साथ दबोचा गया था उस स्कूटी की जाँच करने पर टीम को पता चला की स्कूटी बदरपुर क्षेत्र से चोरी की गई थी और आरोपी बाबू स्कूटी का इस्तेमाल स्नैचिंग के लिए कर रहा था। बरामद स्कूटी में आरोपी ने DL3CEN 9821 नंबर की फर्जी नंबर प्लेट लगा रखी थी और पुलिस को चकमा देने के लिए आरोपी ने नंबर प्लेट से पिछले दो नंबर 21 को थोड़ा मिटा दिया था। टीम ने जाँच में पाया की स्कूटी का असली नंबर DL 3SCJ 2299 है। आरोपी ने 23 मई 2020 को स्कूटी गौतमपुरी बाल्मीकि चौक से रात के समय चोरी की थी। बदरपुर थाने में स्कूटी चोरी की ई एफआईआर नंबर 011407/20 धारा 379 के तहत मामला दर्ज है।

जाँच में टीम को पता चला की आरोपी बाबू एक्टिव क्रिमिनल है और दिल्ली एनसीआर में स्नैचिंग और ऑटो लिफ्टिंग की कई वारदातों को अंजाम दे चुका है। आरोपी से चोरी की दो स्कूटी, एक मोटरसाइकिल और चार मोबाइल फ़ोन्स बरामद हुये हैं।

आरोपी ने दिनांक दो फरवरी 2022 को स्कूटी से अपने एक अन्य साथी के साथ मिलकर किशनगंज बस स्टॉप पर बस का इंतजार कर रहे पीड़ित गुलाम समदानी से उसका रेडमी मोबाइल फोन छीन लिया और मौके से फरार हो गया था।

आरोपी ने आपने कुछ साथियों के साथ छतरपुर बस स्टॉप पर डीटीसी बस से उतरते समय पीड़ित शेर अली के साथ धक्का मुक्की की और उसका सैमसंग फोन चोरी कर लिया था। आरोपी बाबू से दोनों फोन बरामद किए गए हैं।

टीम ने आरोपी की निशानदेही पर आली गांव खेल मैदान में पार्क की गई चोरी की एक स्कूटी और एक मोटर साइकल को भी बरामद कर लिया है।

जाँच में पुलिस टीम को यह भी पता चला की आरोपी का brother in law बिदेश सिंह सरिता विहार थाने का बीसी है और आरोपी बाबू के चोरी के सामानों को ठिकाने लगाता था।

आरोपी बाबू का भाई धर्मेंद्र भी शातिर स्नैचर और ऑटो लिफ्टर है। आरोपी के भाई ने दिनांक 10 मार्च 2021 को डिफेंस कॉलोनी इलाके में एक वारदात को अंजाम देकर भागते समय कांस्टेबल नवीन पर फायरिंग कर बुरी तरह घायल कर दिया था। हालाँकि बाकि अन्य बीट स्टाफ ने धर्मेंद्र को दौड़कर दबोच लिया था। आरोपी के भाई धर्मेंद्र के खिलाफ दिनांक 10 मार्च 2021 को थाना डिफेंस कॉलोनी में एफआईआर संख्या 0034/21 धारा 186/353/333/307/34 और 25/27 आर्म्स एक्ट के तहत मामला दर्ज किया गया था। और आरोपी का भाई धर्मेंद्रअभी जेल में है।

आरोपी की गिरफ्तारी से थाना बदरपुर, थाना नार्थ रोहिणी, थाना सागरपुर, थाना फ़तेह पुर बेरी और थाना किशन गढ़ साउथ में दर्ज स्नैचिंग और ऑटो लिफ्टिंग के सात मामले सुलझ गए हैं।

गिरफ्तार आरोपी बाबू की उम्र 26 साल है और इसने 8वीं तक पढ़ाई की है। इसका भाई धर्मेंद्र और brother in law बिदेश सिंह भी क्रिमिनल बैकग्राउंड से है। आरोपी बाबू ने नाबालिगों का pick pocketing गैंग बना रखा है, नाबालिगों ने आरोपी बाबू के साथ मिलकर बस स्टैंड और मेट्रो स्टेशनों पर लोगों की जेब काटी और मोबाइल फोन छीने। आरोपी बाबू को सीआरपीसी की धारा 41 पॉइंट 1 के तहत गिरफ्तार किया गया है।

सनसनी ऑफ़ इंडिया नेटवर्क