ब्लाइंड रॉबरी केस में नेक्सा सर्विस स्टेशन का एम्प्लोयी गिरफ्तार

0

विजय कुमार दिवाकर मारुती सुजुकी के Authorised सर्विस स्टेशन Motorcraft नोएडा में सर्विस के लिए आई कार से सर्विस स्टेशन का एक कर्मचारी अपने दोस्त के साथ दिल्ली में डकैती की वारदात को अंजाम देकर फरार हो गया। थाना सनलाइट कॉलोनी पुलिस ने हार्ड वर्क और इंटेलिजेंस से ब्लाइंड डकैती की वारदात को सुलझाते हुए सर्विस स्टेशन के एक कर्मचारी और उसके दोस्त को धर दबोचा है। लुटेरों की पहचान 26 वर्षीय पूरन चंद और 22 वर्षीय प्रकाश के रूप में हुई है। इनकी गिरफ्तारी के साथ इनके कब्जे से एक कार और लूटा हुआ एक मोबाइल फोन बरामद किया गया है।

दक्षिण पूर्व जिला डीसीपी एशा पांडेय ने बताया की दो फरवरी 2022 को थाना सनलाइट कॉलोनी में डकैती की एक पीसीआर कॉल प्राप्त हुई थी। थाना सनलाइट कॉलोनी पुलिस स्टाफ मौके पर पहुंचा। मौके पर मौजूद पीड़ित संजय ने पुलिस को बताया की वो मोटरसाइकिल से अपने घर जा रहा था। जब वह आश्रम फ्लाईओवर पर पहुंचा तो उसने देखा कि एक एंबुलेंस ट्रैफिक जाम में फंसी हुई है। इसी दौरान उसकी नजर एक कार पर पड़ी जो एंबुलेंस का रास्ता रोक रही थी। उसने कार चालक से एम्बुलेंस को रास्ता देने के लिए कहा लेकिन कार चालक रास्ता देने की बजाए संजय को गन्दी गन्दी गालियां देने लगे और एम्बुलेंस को रास्ता देने से इनकार कर दिया। पीड़ित संजय ने उस कार का वीडियो बनाना शुरू कर दिया। इसी दौरान कार से उतरे दो लोगों ने पीड़ित संजय की पिटाई कर दी। दोनों आरोपियों ने पीड़ित संजय को बहुत मारा और उसका मोबाइल फोन लूट कर मौके से फरार हो गए। राह चलती किसी महिला ने पुलिस कण्ट्रोल रूम में कॉल करके वारदात की जानकारी दी।

थाना सनलाइट कॉलोनी ने एफआईआर संख्या 137/22 अंडर सेक्शन 392/34 के तहत दर्ज कर मामले की जांच की।

ब्लाइंड डकैती को सुलझाने और आरोपियों को दबोचने के लिए दक्षिण पूर्व जिला डीसीपी एशा पांडेय ने थाना सनलाइट कॉलोनी एसएचओं विजय संसवाल की सुपरविजन व सराय काले खां चौकी इंचार्ज विष्णु दत्त के नेतृत्व में एसआई अरुण कुमार, हेड कांस्टेबल पवन, नरेंदर, कांस्टेबल सचिन और धर्मचंद की एक क्रेक टीम का गठन किया। जाँच टीमों ने सबसे पहले क्राइम सीन के आसपास लगे सीसीटीवी कैमरों को खंगाला। आश्रम फ्लाईओवर पर इंट्री और एग्जिट पॉइंट पर लगे सीसीटीवी कैमरों को बार बार स्कैन किया। जाँच टीमों को इस मामले में पहली लीड सीसीटीवी फुटेज से ही मिली जिसमें आश्रम फ्लाईओवर के ऊपर क्राइम सीन से नोएडा की तरफ एक कार बड़ी तेजी के साथ भागते हुई दिखाई दी। सीसीटीवी फुटेज में कार का नंबर कैद हो गया था। जाँच टीम ने कार के रजिस्ट्रेशन नंबर के जरिए कार के मालिक का नाम और पता नोट डाउन किया। कार हंसा सैनिटरी एंड हार्डवेयर स्टोर, मीरा बाग, दिल्ली के नाम से रजिस्ट्रड थी।

टीम ने तुरंत ही कार के रजिस्ट्रेशन नंबर से मिले पते पर छापेमारी की तो बड़ी चौकाने वाली बात सामने आई। कार मालिक ने पुलिस को बताया की उसने अपनी कार मारुती सुजुकी के Authorised सर्विस स्टेशन Motorcraft नोएडा में सर्विस के लिए दे रखी है। मारुती सुजुकी के Authorised सर्विस स्टेशन Motorcraft नोएडा ने पूरन चंद नामके अपने एक कर्मचारी को कार पिक करने के लिए भेजा था।

टीम मारुती सुजुकी के Authorised सर्विस स्टेशन Motorcraft सी 42 सेक्टर 57 नोएडा पर पहुंची। वारदात में इस्तेमाल कार सर्विस स्टेशन के परिसर में खड़ी मिली। पुलिस ने तुरंत ही कार को अपने कब्जे में ले लिया।

जाँच के समय मारुती सुजुकी के Authorised सर्विस स्टेशन Motorcraft की बड़ी लापरवाही सामने आई। Motorcraft के पास आरोपी कर्मचारी पूरन चंद का रिकॉर्ड ही नहीं था। Motorcraft सर्विस स्टेशन के सीनियर स्टाफ आरोपी कर्मचारी के पते को लेकर जांच टीम को लगातार गुमराह करता रहा। Motorcraft सर्विस स्टेशन से आरोपी कर्मचारी का एक फोटो और मोबाइल नंबर मिला जोकि बंद था। जाँच टीम को Motorcraft सर्विस स्टेशन से आरोपी कर्मचारी का बस इतना पता मिला की आरोपी खोड़ा कॉलोनी नोएडा में कहीं रहता है।

जाँच टीम ने हिम्मत नहीं हारी और खोड़ा कॉलोनी नोएडा में आरोपी की फोटो दिखाकर उसके बारे में पूछताछ की। फोटो की मदद से जांच टीम आरोपी के पते तक पहुंच गई। पता चला की आरोपी किराये पर रहता था और पिछले कई दिनों से अपने कमरे पर नहीं आया है। जाँच टीम को यहां आरोपी तो नहीं मिला लेकिन मकान मालिक से आरोपी का आधार कार्ड मिल गया।

जाँच टीमों को मोबाइल कंपनी से पता चला की आरोपी ने अपने आधार कार्ड से दो मोबाइल नंबर लिए थे जिनमे एक मोबाइल नंबर बंद है और एक मोबाइल नंबर अभी भी एक्टिव है।

आरोपी के एक्टिव नंबर को सर्विलांस पर लगा दिया गया। दिनांक आठ फरवरी 2022 को आरोपी का मोबाइल मालवीय नगर इलाके में चलता मिला। जाँच टीम ने मोबाइल की पिनपॉइंट लोकेशन पर छापेमारी कर आरोपी को दबोच लिया।

आरोपी की पहचान 26 वर्षीय पूरन चंद पुत्र ख्याली चंद निवासी अल्मोड़ा, उत्तराखंड के रूप में हुई। पूछताछ के दौरान उसने अपना जुर्म कबूल कर लिया। उसके पास से लूटा गया मोबाइल फोन बरामद कर लिया गया। आरोपी की निशानदेही पर उसके साथी 22 वर्षीय प्रकाश पुत्र महेशानंद निवासी अल्मोड़ा, उत्तराखंड को सेक्टर 62, खोड़ा, यूपी से गिरफ्तार किया। इनकी गिरफ्तारी के साथ इनके कब्जे से एक कार और लूटा हुआ एक मोबाइल फोन बरामद किया गया है।

आरोपियों ने पूछताछ में बताया की वे शराब के नशे में धुत्त थे। नोएडा जाते समय जब वे आश्रम फ्लाईओवर पहुंचे तो एंबुलेंस को रास्ता नहीं देने पर वीडियो बनाने को लेकर शिकायतकर्ता से झगड़ा हो गया। इसलिए गुस्से में आकर उन्होंने शिकायतकर्ता की पिटाई की और उसका मोबाइल फोन लूट लिया।

आरोपी पूरन चंद ने 9वीं तक पढ़ाई की है। वह मारुती सुजुकी के Authorised सर्विस स्टेशन Motorcraft सी 42 सेक्टर 57 में मैकेनिक का काम करता है।

आरोपी प्रकाश ने 5वीं तक पढ़ाई की है। यह बेरोजगार है । दोनों की पुरानी कोई क्राइम हिस्ट्री नहीं है।

सनसनी ऑफ इंडिया