मोस्ट वांटेड गैंगस्टर अनिल दुजाना गिरफ्तार

0

विजय कुमार दिवाकर Murder, attempt to murder, Extortion, Arms Act जैसे 50 से अधिक वारदातों को अंजाम दे चुके हार्डकोर क्रिमिनल्स मोस्ट वांटेड व इनामी गैंगस्टर 36 वर्षीय सुनील उर्फ़ अनिल उर्फ़ दुजाना व उसके दो अन्य साथियों को दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच की स्टार सेकंड यूनिट ने गिरफ्तार किया है। यह वर्ष 2020 में हुई एक जानकार की हत्या का बदला लेने के लिए पूर्वी दिल्ली इलाके के मंडावली में आया था। गिरफ्तार दो अन्य साथियों की पहचान दिल्ली के मयूर विहार निवासी रकम सिंह व गौतमबुद्ध नगर के मिलक खटाना गांव निवासी सचिन गुर्जर के रूप में हुई है। इन दोनों पर भी कई संगीन धाराओं में आपराधिक मामले दर्ज हैं। नाेएडा में हुई एक हत्या के मामले में शामिल अनिल दुजाना पर 50 हजार रुपये का व बुलंदशहर में एक हत्या के मामले मे 25 हजार रुपये का इनाम घोषित था। क्राइम ब्रांच के जॉइंट Commissioner धीरज कुमार के मुताबिक दिनांक पांच जनवरी 2022 को इंस्पेक्टर अरुण सिंधु को secret information मिली कि Murder, attempt to murder, Extortion, Arms Act जैसे 50 से अधिक वारदातों को अंजाम दे चुके मोस्ट वांटेड व इनामी गैंगस्टर सुनील उर्फ़ अनिल उर्फ़ दुजाना एक जानकार की हत्या का बदला लेने के लिए पूर्वी दिल्ली के मंडावली इलाके में छिपा हुआ है। information मिलते ही मोस्ट वांटेड गैंगस्टर को दबोचने के लिए अरविन्द कुमार एसीपी स्टार सेकंड की supervision व इंस्पेक्टर अरुण सिंधु के नेतृत्व में एएसआई सलीम, चंद्र प्रकाश, रविंदर, मनोज, एसआई रविंदर, हेड कांस्टेबल अबदेश और गौरव त्यागी की एक टीम बनाई गई। पूरा ऑपरेशन मनोज सी डीसीपी क्राइम एसटीएफ स्टार सेकंड की खास supervision में चलाया गया। टीम ने उसके बारे में जानकारी जुटाना शुरू किया। पुलिस टीम उस जगह पर पहुंची जहां पर उनके छुपे हुए होने की सूचना मिली थी। वहां पर swift Dezire कार के पास सचिन गुर्जर नामक शख्स पुलिस को मिला। पूछताछ के दौरान उसके पास से एक सेमी ऑटोमेटिक पिस्तौल और छह जिंदा कारतूस बरामद हुए। गिरफ्तार सचिन गुर्जर ने पुलिस को गैंगस्टर अनिल दुजाना के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी दी। सचिन गुर्जर की निशानदेही पर पुलिस ने गैंगस्टरअनिल दुजाना को उसके साथी रकम सिंह सहित दबोच लिया। इनके पास से भी 2 सेमी ऑटोमेटिक पिस्तौल और 9 जिंदा कारतूस बरामद हुए। पूछताछ में पता चला कि वर्ष 2020 में business और Property dispute में विरोधी गैंगस्टर सुंदर भाटी गैंग के बदमाशों ने गैंगस्टर अनिल दुजाना के करीबी राहुल नागर उर्फ़ भुरू की हत्या कर दी थी। इस हत्या को लेकर एफआईआर संख्या 247/20 अंडर सेक्शन 302/392/397/ 34 और 27 Arms Acts के तहत थाना मंडावली में मामला दर्ज है। इस मामले में आठ आरोपित पहले ही गिरफ्तार हो चुके हैं। गैंगस्टर अनिल दुजाना इस हत्या के लिए मंडावली इालाके में रहने वाले एक कारोबारी को जिम्मेदार मानता था। ऐसे में उसकी हत्या करने के इरादे से मंडावली इलाके में रेकी कर रहा था। गिरफ्तार गैंगस्टर व उसके दो अन्य साथियों के खिलाफ थाना क्राइम ब्रांच में एफआईआर संख्या 3/21 अंडर सेक्शन 25 आर्म्स एक्ट के तहत मामला दर्ज किया गया है। गिरफ्तार किया गया 36 वर्षीय गैंगस्टर सुनील उर्फ अनिल दुजाना पुत्र चतर सिंह बादलपुर का रहने वाला है। इसका जन्म दुजाना गांव में हुआ था। इसने मात्र नाइन्थ क्लास तक पढ़ाई की है। इसके तीन भाई हैं। यह वर्ष 2002 से आपराधिक वारदातों को अंजाम दे रहा है। 2002 में उसने पहली बार wrestler हरबीर की हत्या की थी। इसके बाद उसने हत्या, हत्या प्रयास, जबरन उगाही, लूट और आर्म्स एक्ट की 50 से ज्यादा वारदातों को अंजाम दिया। इसकी गिरफ्तारी पर 50 हजार रुपये का इनाम नोएडा पुलिस और 25 हजार का इनाम बुलंदशहर पुलिस ने रखा था। इसकी गैंग में 20 से ज्यादा बदमाश सक्रिय हैं। जनवरी 2021 में वह जेल से बाहर निकला था और इसके बाद से फरार चल रहा था। पुलिस टीम कई महीनों से उसकी तलाश कर रही थी। उसके खिलाफ अदालत ने गैर जमानती वारंट जारी किया हुआ था। दूसरा आरोपी 28 वर्षीय सचिन गुर्जर पुत्र मदन लाल गुर्जर गौतमबुद्ध नगर का रहने वाला है। यह दसवीं कक्षा तक पढ़ा है और कुंवारा है। यह गैंगस्टर अनिल दुजाना गैंग का सक्रिय सदस्य है। इसके खिलाफ हत्या, लूट और जबरन उगाही के 10 से ज्यादा मामले दर्ज हैं। यह जेल से दिसंबर 2019 में छूट कर आया था। यह गैंगस्टर अनिल दुजाना के साथ कई मामलों में भी वांटेड है। तीसरा आरोपी रकम सिंह पुत्र श्यामि मकान नंबर 68, गुलिआ मोहल्ला, चिल्ला Gaon, मयूर विहार का रहने वाला है। यह शादीशुदा है और इसके दो बच्चे हैं। यह गैंगस्टर अनिल दुजाना का दोस्त है और बारहवीं कक्षा तक पढ़ा है। उसके खिलाफ हत्या और लूट के 10 से ज्यादा मामले दर्ज हैं। यह जेल से दिसंबर 2020 में बाहर निकला था। वर्तमान में गैंगस्टर अनिल दुजाना उसके साथ पूर्वी दिल्ली में रह रहा था।