सनसनी ऑफ़ इंडिया
दक्षिणी दिल्ली के वसंत कुंज (Vasant Kunj) इलाके में हुए पुलिस एनकाउंटर में मेवाती गैंग का एक बदमाश पुलिस की गोली लगने से घायल हो गया. दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल को मिली टिप के बाद आरोपी को पकड़ने का जाल बिछाया गया. इसके बाद हुई सटीक प्लानिंग की वजह से अरशद पुलिस के हत्थे चढ़ गया. आरोपी एटीएम तोड़ कर पैसा लूटने में माहिर था वहीं और कई मामलों में पुलिस सो इसकी तलाश थी.

ऐसे कसा शिकंजा
दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल के इंस्पेक्टर शिव कुमार की टीम को खबर मिली थी कि दिल्ली-एनसीआर में लूट की कई वारदातों का आरोपी और मेवाती गैंग से तालुक रखने वाला अरशद वसंत कुंज के नांगलदेवात इलाके में आने वाला है. पुलिस जब मौके पर पहुंची उस दौरान गैंग लीडर अरशद एक एटिऑस (Etios) कार में सवार होकर लूट की वारदात को अंजाम देने जा रहा था. पुलिस ने इसे रोकने की कोशिश की तो अरशद ने गाड़ी छोड़कर भागने के दौरान पुलिस पर फायर किया, उसके बाद पुलिस ने भी जवाबी कार्रवाई करते हुए 4 राउंड गोली चलाई, जिसमें एक गोली उसके पैर में लगने के बाद वो फरार नहीं हो सका.

रविवार को वसंत कुंज में एटीएम उखाड़ने वाले गिरोह के मुख्य सदस्य अरशद द्वारा एटीएम बूथों की रेकी के लिए आने की सूचना इंस्पेक्टर शिवकुमार को मिली। इसके बाद गिरफ्तारी हुई।

ATM तोड़ने में थी महारथ
अरशद के उपर दिल्ली के कई थानों में लूट और अन्य संगीन अपराध में मुकदमे दर्ज थे, लेकिन स्पेशल सेल की सटीक सूचना और तैयारी की वजह से आरोपी पुलिस के शिकंजे में आ गया. लेकिन गोली लगने के बाद घायल अरशद को अस्पताल ले जाया गया है, जिसके बाद इसे अगली कानूनी कार्रवाई करते हुए अदालत में पेश किया जाएगा. डीसीपी स्पेशल सेल प्रमोद कुशवाहा के मुताबिक अरशद इंटरस्टेट मेवाती गैंग का लीडर है जिसने दिल्ली और एनसीआर में ताबड़तोड़ लूट की वारदातों को अंजाम दे कर कोहराम मचा रखा था, अरशद ने कबूल किया है कि राजधानी दिल्ली के रजोकरी और बदरपुर इलाके में हुई एटीएम तोड़ कर लूट की वारदात में उसी के गैंग का हाथ था. वहीं स्पेशल सेल का ये भी कहना है कि पूछताछ के बाद मेवाती गैंग के अन्य बदमाशों के बारे में भी सुराग मिलने की उम्मीद है.