सनसनी ऑफ़ इंडिया नेटवर्क
साहिबाबाद। खोड़ा थाना क्षेत्र के नेहरू गार्डन में शुक्रवार रात दिल्ली से रास्ता भटककर पहुंची बुजुर्ग महिला का पता ढूंढ़कर पुलिस ने स्वजनों को सौंप दिया। स्वतंत्रता दिवस के मौके पर बैंकों की छुट्टी होने के बावजूद पुलिस ने बुजुर्ग महिला के पास मिले एक चेक से उनका पता निकाला। खोड़ा पुलिस की इस कार्य की महिला के स्वजनों ने प्रशंसा करते हुए आभार व्यक्त किया।

महिला के पास थे काफी गहने
वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक कलानिधि नैथानी ने बताया है कि शुक्रवार रात खोड़ा के नेहरू गार्डन में दो बैग लिए करीब 60 वर्षीय महिला पुलिस को मिली। महिला ठीक से बोल नहीं पा रही थी। नाम व पता भी नहीं बता पाई। बैग में सोने के पांच टॉप्स, चार चूड़ी, एक मंगलसूत्र, चांदी की दो चूड़ी, 50 हजार रुपये नकद व कपड़े रखे थे। महिला के बारे में जानकारी जुटाई गई। वाट्सएप समूहों पर फोटो व विवरण साझा किया गया, लेकिन कुछ जानकारी नहीं हासिल हुई।

बैग में मिला चेक
खोड़ा थाना प्रभारी निरीक्षक संदीप सिंह ने बताया है कि महिला के बैग से भारतीय स्टेट बैंक का एक चेक भी मिला। शनिवार को स्वतंत्रता दिवस का अवकाश होने के कारण बैंक बंद थे। उन्होंने अपने व्यक्तिगत संबंधों से चेक के बारे में जानकारी जुटाई। चेक के जरिए खाता धारक डॉक्टर पुष्पावती सिंघानिया हॉस्पिटल एंड रिसर्च इंस्टीट्यूट दिल्ली के कॉडियोलॉजिस्ट डा. सत्यानंद पाठक व उनके मोबाइल नंबर की जानकारी हुई। उनसे बात करने पर पता चला कि वह लोग न्यू फ्रेंडर्स कॉलोनी, दिल्ली में रहते हैं। उनकी 60 वर्षीय बहन केवल देवी बृहस्पतिवार से लापता हैं। उन्होंने थाना न्यू फ्रेंडर्स कॉलोनी दिल्ली में गुमशुदगी दर्ज कराई है। उन्होंने बताया कि नेहरू गार्डन में मिली बुजुर्ग महिला की फोटो डा. सत्यानंद पाठक को वाट्सएप पर भेजी गई, तो उन्होंने उनकी पहचान अपनी गुमशुदा बहन केवल देवी के रूप में की। वह खोड़ा थाना पहुंचे और बहन को अपने साथ दिल्ली ले गए।

घूमने फिरने का है शौक
डा. सत्यानंद ने पुलिस को बताया है कि बहन को घूमने-फिरने का शौक है। कोरोना काल में कहीं घूमने नहीं जा पाईं। लगता है कि इसी कारण बृहस्पतिवार को बैग लेकर घूमने निकल गईं और रास्ता भटककर यहां पहुंच गईं।