इंस्टाग्राम पर वीडियो बनाने वाला जिम ट्रैनर निकला हथियार तस्कर

0

विजय कुमार दिवाकर
स्पेशल सेल दक्षिणी रेंज के एसीपी अत्तर सिंह की सुपरविजन व तेज तर्रार इंस्पेक्टर ईश्वर सिंह की टीम ने सोशल मीडिया पर हथियार लेकर विडियों बनाने वाले जिम ट्रैनर की काॅल डिटेल खंगालकर अवैध हथियारों की तस्करी करने वाले एक गैंग का पर्दाफाश कर तीन अवैध हथियार तस्करों को गिरफ्तार किया है। आरोपी मध्य प्रदेश से अवैध हथियार लाकर पंजाब और दिल्ली एनसीआर में सप्लाई करते थे। इनके कब्जे से नौ सेमी ऑटोमेटिक पिस्टल व 12 कारतूस बरामद किए गए हैं। आरोपी दो वर्षों से अवैध हथियारों की तस्करी कर रहे थे और दो वर्षों में 300 से ज्यादा अवैध हथियार सप्लाई कर चुके हैं।
अवैध हथियार तस्करों की पहचान 21 वर्षीय सुभम उर्फ गुड्डू उर्फ राज, 20 वर्षीय विजय भान व 29 वर्षीय अभिषेक राय के रूप में हुई है। तीनों पंजाब के रहने वाले है।
स्पेशल सेल डीसीपी जसमीत सिंह ने बताया की स्पेशल सेल दक्षिणी रेंज एसीपी अत्तर सिंह के नेतृत्व में इंस्पेक्टर ईश्वर सिंह की टीम सेंधवा, खरगोन, धार और बुरहानपुर मध्य प्रदेश से हथियार खरीदकर दिल्ली एनसीआर में अवैध हथियार सप्लाई करने वाले नेटवर्क पर नजर रखे हुए है।
इसी कड़ी में स्पेशल सेल दक्षिणी रेंज इंस्पेक्टर ईश्वर सिंह के नेतृत्व में एक टीम सोशल मीडिया पर भी नजर रखे हुए है। सोशल मीडिया टीम ने instagram पर यूजर आईडी akfitness65 पर पंजाब के जिम ट्रैनर अभिषेक राय का एक विडियो नोटिस किया। विडियो में जिम ट्रैनर हथियार लेकर स्लो मोशन मोड़ पर चल रहा था। थोड़ी देर बाद जिम ट्रैनर अभिषेक राय ने अपनी सोशल नेटवर्क साईट से उस विडियो को डिलिट कर दिया था। इंस्पेक्टर ईश्वर सिंह की टीम को डिलिट विडियो पर शक हुआ। और सोशल नेटवर्किंग साईट से संपर्क कर डिलिट विडियो को रिकवर करके बारीकी से देखा। वीडियो की जाँच करने से टीम को पता चला की जिम ट्रेनर अभिषेक राय ने जो हथियार लेकर वीडियो बनाया था वो हथियार अवैध है।

उसके बाद इंस्पेक्टर ईश्वर सिंह ने सस्पेक्ट जिम ट्रेनर अभिषेक राय की कुंडली खंगालनी शुरू कर दी। टीम को सोशल नेटवर्किंग साइड से सस्पेक्ट जिम ट्रेनर का मोबाइल नंबर मिला। टीम ने जिम ट्रेनर की कॉल डिटेल को बारीकी से चेक किया। लेकिन जिम ट्रेनर की कॉल हिस्ट्री एकदम क्लीन मिली।

स्पेशल सेल दक्षिणी रेंज एसीपी अत्तर सिंह को पूरा भरोसा था की सस्पेक्ट जिम ट्रेनर अभिषेक राय के पास अवैध हथियार किसी न किसी माध्यम से जरूर आया है। एसीपी अत्तर सिंह ने तेज तर्रार इंस्पेक्टर ईश्वर सिंह की टीम को सस्पेक्ट जिम ट्रेनर अभिषेक राय की कॉल डिटेल में आने वाले नंबरों की कॉल डिटेल खंगालने को कहा।

कॉल डिटेल खंगालने पर टीम को एक और सस्पेक्ट सुभम उर्फ गुड्डू का नंबर मिला। कॉल डिटेल से टीम को पता चला की सस्पेक्ट सुभम उर्फ गुड्डू सेंधवा, खरगोन, धार और बुरहानपुर मध्य प्रदेश के अवैध हथियार तस्करों के संपर्क में है। इंस्पेक्टर ईश्वर सिंह ने तुरंत सस्पेक्ट सुभम उर्फ गुड्डू पर मोबाइल सर्विलांस से नजर रखनी शुरू कर दी।

दो महीने की कड़ी मेहनत के बाद टेक्नीकल सर्विलांस से टीम को पता चला की सस्पेक्ट सुभम उर्फ गुड्डू दिनांक 11 मार्च 2022 को दोपहर 1 से 2 बजे के बीच दिल्ली में विजय भान नामक व्यक्ति को समाचार अपार्टमेंट बस स्टैंड, मयूर विहार फेज वन के पास अवैध हथियारों की सप्लाई करने आएगा।

इनफार्मेशन कन्फर्म होते ही स्पेशल सेल डीसीपी जसमीत सिंह ने स्पेशल सेल दक्षिणी रेंज एसीपी अत्तर सिंह की सुपरविजन व स्पेशल सेल के तेज तर्रार इंस्पेक्टर ईश्वर सिंह के नेतृत्व में एक टीम का गठन किया।

टीम ने बस स्टैंड के चारों और जाल बिछाया। दोपहर में अक्षरधाम की ओर से सुभम उर्फ गुड्डू बगल में एक बैग टांगे आता दिखाई दिया। और समाचार अपार्टमेंट बस स्टैंड के पास खड़े होकर किसी का इंतजार करने लगा। थोड़ी देर बाद विजय भान आया। जैसे ही सुभम उर्फ गुड्डू ने विजय भान को एक पैकेट दिया तभी ट्रैप लगाकर बैठी स्पेशल स्टाफ की टीम ने दोनों को दबोच लिया। तलाशी लेने पर सुभम उर्फ गुड्डू और विजय भान के पास से पॉइंट 32 की 8 सेमी ऑटोमैटिक पिस्टल और 10 जिंदा कारतूस बरामद हुए।

पूछताछ में शुभम ने बताया कि उसे जिम ट्रेनर अभिषेक राय के निर्देश पर खारगोन, मध्यप्रदेश के एक हथियार निर्माता सप्लायर से पिस्टल और कारतूस की खेप मिली थी।

स्पेशल स्टाफ की एक टीम ने दिनांक 13 मार्च 2022 को लुधियाना पंजाब में आरोपी अभिषेक राय को उसकी जिम से गिरफ्तार कर लिया। आरोपी के पास से दो जिन्दा कारतूस पॉइंट 32 की एक सेमी ऑटोमैटिक पिस्टल बरामद की गई।

अभिषेक ने पूछताछ में बताया कि वह लुधियाना पंजाब में पिछले तीन वर्षों से जिम चला रहा है। वह इंस्ट्राग्राम और अन्य सोशल मीडिया प्लेटफार्मों पर अपना शार्ट वीडियो व पोस्ट तैयार करता है। करीब दो वर्ष पहले वह अवैध हथियार तस्कर से मिला था। इसके बाद वह अवैध हथियारों की सप्लाई करने लगा। अभिषेक ने पंजाब में अवैध हथियारों की तस्करी करना शुरू किया। वह नेट बैंकिंग के जरिए हथियार सप्लायर के बैंक खाते में पैसे भेजता था। हाल ही में अभिषेक ने मध्यप्रदेश के हथियार आपूर्तिकर्ता के बैंक खाते में 30 हजार रुपये ट्रांसफर किए थे। ये पंजाब में गैंगस्टर व बदमाशों को अवैध हथियार सप्लाई करता था।
गिरफ्तार आरोपियों ने बताया है की वो पिछले 2 वर्षों से दिल्ली एनसीआर और पंजाब में वैध हथियारों की सप्लाई करते आ रहे हैं। आरोपी शुभम ने बताया की उसने शुरू में लगभग एक साल तक पंजाब के हथियारों के तस्करों के लिए करियर के रूप में काम किया था, लेकिन बाद में उसने हथियारों की तस्करी का अपना नेटवर्क विकसित किया। गिरफ्तार किए गए लोगों को मध्य प्रदेश से कम रेट पर पिस्टल मिलती थी और वह दिल्ली एनसीआर और पंजाब में गैंगस्टरों और हार्डकोर अपराधियों को अधिक रेट पर इसकी सप्लाई करता था।

सनसनी ऑफ़ इंडिया नेटवर्क