थप्पड़ कांड का बदला लेने के लिए आरोपी ने हिन्दू युवा वाहिनी के नेता को मारी थी गोली

घटना को लेकर मृतक के पिता वीर सिंह ने साकीपुर गांव के रहने वाले रिश्तेदार रोहित भाटी, रिंकू भड़ाना मूल निवासी फरीदाबाद व रोहित भाटी के पिता चमन के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज कराया था.

सनसनी ऑफ़ इंडिया
गौतमबुद्ध नगर (यूपी),

गिरफ्तार आरोपी

ग्रेटर नोएडा पुलिस ने हिन्दू युवा वाहिनी के पूर्व जिला उपाध्यक्ष संदीप नागर की हत्या मामले में दो लोगों को गिरफ्तार किया है. दनकौर कोतवाली पुलिस ने दोनों मुख्य आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है. घटना के संबंध में पुलिस ने बताया कि हत्या थप्पड़ कांड का बदला लेने के लिए किया गया था. पुलिस के मुताबिक वारदात को अंजाम देने से पहले तीनों ने साथ बैठककर शराब पी थी. पुलिस ने आरोपियों के पास से घटना में यूज की गई पिस्टल, कार व मोबाइल फोन बरामद किया है. संदीप नागर हत्याकांड में एक आरोपी अभी भी फरार चल रहा है. पुलिस के मुताबकि पैसे के लेन देन के विवाद में घटना से एक दिन पहले ही मृतक ने एक कार्यक्रम में मुख्य आरोपी को सबके सामने थप्पड़ जड़ दिया था.

मृतक नेता संदीप नागर (फाइल फोटो)

हिन्दू युवा वाहिनी गौतमबुद्ध नगर के पूर्व जिला उपाध्यक्ष संदीप नागर निवासी गांव अट्टा गुजरान की बीते 26 नवंबर की रात गोली मारकर हत्या कर दी गई थी. संदीप नागर का शव 27 नवंबर की सुबह जगनपुर गांव के पास बांध के नीचे पड़ा मिला था. इस मामले में मृतक के पिता वीर सिंह ने साकीपुर गांव के रहने वाले रिश्तेदार रोहित भाटी, रिंकू भड़ाना मूल निवासी फरीदाबाद व रोहित भाटी के पिता चमन के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज कराया था. संदीप नागर आखिरी बार रोहित भाटी और रिंकू भड़ाना के साथ ही देखा गया था.
एसपी देहात रणविजय सिंह ने बताया कि पुलिस घटना की जांच पड़ताल कर आरोपियों की तलाश में जुट गई. पुलिस ने नामजद अभियुक्त रोहित भाटी और रिंकू भड़ाना को 30 नवंबर की शाम मुखबिर की सूचना पर ईस्टर्न पैरिफेरल यमुना एक्सप्रेसवे अंडरपास के ऊपर पुल पर गिरफ्तार कर लिया.

रोते बिलखते परिजन

मौसेरे बहनोई और उसके साथी ने दिया वारदात को अंजाम
ग्रेटर नोएडा स्थित दनकौर के जगनपुर गांव के पास हिंदू युवा वाहिनी के नेता संदीप नागर की हत्या के मामले में पुलिस ने चौंकाने वाला खुलासा किया है। पुलिस के मुताबिक संदीप की हत्या उसके मौसेरे बहनोई रोहित भाटी और उसके साथी रिंकू ने की थी। संदीप और दोनों आरोपियों में गहरी मित्रता थी। रविवार को पुलिस ने दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर हत्या में प्रयोग की गई गाड़ी, तीन मोबाइल और पिस्टल बरामद कर लिया है।

संदीप नागर की हत्या के बाद जुटी भीड़, शव को एंबुलेंस में ले जाते परिजन और पुलिस

शराब पीते-पीते हुआ किसी बात को लेकर विवाद
एसपी देहात रणविजय सिंह ने बताया कि साकीपुर निवासी आरोपी रोहित भाटी फिलहाल फरीदाबाद में कारोबार करता है। रोहित भाटी संदीप नागर का मौसेरा बहनोई है। दोनों जीजा-साले की चूहड़पुर गांव में रहने वाले रिंकू भड़ाना से लगभग 10 वर्षों से गहरी दोस्ती थी। 25 नवंबर की रात तीनों लोग एक समारोह में गए हुए थे। पुलिस के मुताबिक, यहां तीनों ने एक साथ शराब भी पी थी, जिसके बाद रिंकू और संदीप में किसी बात को लेकर विवाद हो गया।

मौके पर पहुंचकर जांच करती पुलिस
मौके पर पहुंचकर जांच करती पुलिस

थप्पड़ का बदला हत्या करके लिया
आरोपियों ने पुलिस को बताया कि संदीप अक्सर रिंकू को गाली देता था। उस दिन रोहित इसका विरोध कर रहा था, इसीलिए संदीप ने रोहित को थप्पड़ मार दिया। पुलिस का दावा है कि इसी थप्पड़ का बदला लेने के लिए रोहित ने रिंकू के साथ मिलकर संदीप की हत्या कर दी। समारोह में सबके सामने थप्पड़ मारने की घटना से रोहित खुद को अपमानित महसूस कर रहा था। उसने मन ही मन संदीप भाटी को सबक सिखाने की ठान ली थी। उसने रिंकू के साथ मिलकर संदीप की हत्या की साजिश रची।

इस प्रकार हत्या की साजिश
26 नवंबर की देर शाम वह कार लेकर संदीप के घर पहुंचे और बहाना बनाकर उसे अपने साथ ले गए। तीनों ने कासना में शराब पी और कार में घूमते-घूमते आधी रात को जगनपुर गांव के पास बंधे पर आ गए। यहां रोहित ने संदीप को थप्पड़ मारने की घटना याद दिलाई और माफी मांगने को कहा। संदीप माफी मांगने के बजाय आग बबूला हो गया और फिर से रोहित और रिंकू को गाली दी। इसपर दोनों आरोपियों ने मिलकर संदीप के मुंह में पिस्टल डालकर गोली मार दी।

सीसीटीवी कैमरे में कैद हुई हत्या की घटना

पिता ने दर्ज करवाई थी रिपोर्ट दर्ज
27 नवंबर को संदीप के पिता ने आरोपियों पर रिपोर्ट दर्ज करा दी। पुलिस ने मामले में रोहित और रिंकू को नामजद किया था। इसके बाद संदीप के परिजन ने रोहित के पिता चमन का नाम एफआईआर से निकालने का आरोप लगाया था। मामले में परिजनों ने एसएसपी कार्यालय में प्रदर्शन भी किया। एसपी देहात ने चमन का नाम एफआईआर में जोड़ने को लेकर थाना पुलिस को निर्देश दिया, लेकिन अभी चमन की गिरफ्तारी नहीं हुई है।

गोली मारने के बाद जूते भी मारे
पुलिस की जांच में यह बात सामने आई है कि आरोपी संदीप की हत्या करने के बाद भी संतुष्ट नहीं हुए। उन्होंने थप्पड़ का बदला लेने के लिए संदीप को गोली मारने के बाद जूते भी मारे और उसके जमीन पर गिरने के बाद उसके ऊपर खड़े होकर कूदते रहे।