विजय कुमार दिवाकर
वो जीना चाहती थी. जब उसने शादी की उम्मीद से एक अनजान लड़के पर एतबार किया. वो तब भी जीना चाहती थी. जब उस अनजान लड़के ने उसकी भावनाओं से खेल कर उसे अपने ही दोस्तों के सामने परोस दिया. वो तब भी जीना चाहती थी.

एक अंजाना डर, एक अंजाना ख़ौफ़, तभी तक होता है जब तक वो गुज़र न जाए. शायद इसीलिए हम में से किसी ने कभी लाश को डरते हुए नहीं देखा. पिछले 40 घंटों से जिस ख़ौफ़ ने हमें गिरफ़्तार कर रखा था, जिस सच्चाई से हम नज़रें नहीं मिलाना चाह रहे थे, वो सच्चाई सामने आ ही गई. वो ख़ौफ़ ख़त्म हो गया. अब तो बस उसके खो जाने का अहसास तो कम बाक़ी है, जो हुआ वो न हुआ होता ये ग़म बाक़ी है. वो जीना चाहती थी. जब उसने शादी की उम्मीद से एक अनजान लड़के पर एतबार किया. वो तब भी जीना चाहती थी. जब उस अनजान लड़के ने उसकी भावनाओं से खेल कर उसे अपने ही दोस्तों के सामने परोस दिया. वो तब भी जीना चाहती थी.

प्रेम प्रसंग से शुरू हुआ मामला
पिता के मुताबिक, 2017 में शिवम का घर आना-जाना शुरू हुआ। गांव का लड़का होने के कारण किसी को उसके आने-जाने से कोई आपत्ति नहीं हुई। लेकिन, जब बेटी और उसके संबंधों के बारे में पता चला, तो शिवम के परिवार ने घर आकर दबंगई दिखाई। इसके बाद भी शिवम ने बेटी से संबंध खत्म नहीं किए। दिसंबर 2017 में वो मेरी बेटी को भगा ले गया। बाद में पता चला कि बेटी को रायबरेली लेकर गया है। उसने बेटी को गुमराह करने के लिए गलत कागजात बनवा कर शादी का झांसा दिया और उससे रेप करता रहा। परिवार के दबाव में करीब दो महीने बाद गांव लौटकर उसने मेरी बेटी से रिश्ता खत्म कर दिया। इस दौरान उसने मोबाइल से बेटी का वीडियो बना लिया था। बदनामी के कारण मेरी बेटी अपनी बुआ के यहां रायबरेली रहने चली गई। पिछले साल इसी दिसंबर में शिवम अपने रिश्तेदार शुभम के साथ रायबरेली पहुंचा और मंदिर में शादी का झांसा देकर उसे बुलाया। बेटी ने बताया था कि उसने वहां शादी तो नहीं की, लेकिन उसके साथ दोनों ने हथियार के दम पर दुष्कर्म किया।

पेट्रोल डालकर जिंदा जलाया
मगर एक वक्त ऐसा भी आया जब हालात ना सिर्फ उसकी हद से बल्कि ऊपरवाले के अख्तियार से भी बाहर निकल गया. और ये वक्त तब आया जब वो इंसाफ की उम्मीद से मुंह अंधेरे अदालत जाने के लिए निकली थी और उसे पेट्रोल छिड़ककर ज़िंदा जला दिया गया. वो तब भी जीना चाहती थी जब वो जल रही थी. और तो और वो तब भी जीना चाहती थी.

90 फीसदी तक जल चुकी थी पीड़िता
जब वो जल चुकी थी और अपने दिल की ये मुराद उसने दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में आखिरी सांसें लेते हुए अपने घरवालों से कही थी. मगर दरिंदों ने उसे इस हाल में भी नहीं छोड़ा था कि घरवाले इस नाज़ुक मौके पर उसका हाथ भी थाम पाते. क्योंकि वो तो नब्बे फीसदी यानी तकरीबन सिर से लेकर पांव तक पूरी तरह झुलस चुकी थी. और इस हालत में डॉक्टरों ने घरवालों को उसके ज़्यादा करीब जाने से भी रोक दिया था.

हमेशा के लिए खामोश हो गई ‘वो’
ना चाहते हुए भी आखिरकार उन्नाव की गैंगरेप पीड़ित लड़की को शुक्रवार देर रात 11.40 पर दिल्ली के सफ़दरजंग अस्पताल से इस दुनिया को छोड़ना पड़ा. पीड़ित लड़की को बचाने की एक आखिरी कोशिश तब हुई जब उसे लखनऊ से एयरलिफ्ट कराकर दिल्ली के सफरदरजंग अस्पताल लाया गया था. लेकिन तब तक काफी देर हो चुकी थी. और महज़ दो दिन के अंदर उसने दम तोड़ दिया.

‘आरोपियों को छोड़ना मत’
इसमें कोई शक़ नहीं वो बहुत बहादुर थी. अगर ऐसा ना होता तो गैंगरेप जैसी रुह को कुचल देने वाली वारदात के बाद भी वो इंसाफ के लिए अकेली ना लड़ती. ना अकेले कोर्ट जाती और ना ही तब वो खुद को बचाने की कोशिश करती जब उसे दरिंदे जला रहे थे. सिर्फ तसव्वुर कीजिए कि सिर से लेकर पांव तक पूरी तरह जल जाने के बाद भी वो एक किलोमीटर तक दौड़ी. इलाज के दौरान भी वो बार-बार कहती रही कि मेरे आरोपियों को छोड़ना मत लेकिन ये कहते कहते उसकी आवाज हमेशा के लिए खामोश हो गई.

05 दिसंबर 2019, गुरुवार, सुबह 4 बजे
रेप पीड़िता रायबरेली जाने के लिए ट्रेन पकड़ने उन्नाव के बैसवारा बिहार रेलवे स्टेशन जा रही थी. उसे रायबरेली में अपने वकील से केस के सिलसिले में कुछ बात करनी थी. मगर इस दौरान गौरा मोड़ पर गांव के हरिशंकर त्रिवेदी, किशोर, शुभम, शिवम और उमेश नाम के आरोपियों ने उसे घेर लिया और सिर पर डंडे और गले पर चाकू से हमला करने लगे. चक्कर आने से पीड़िता गिर गई तो आरोपियों ने उसपर पेट्रोल डालना शुरू कर दिया और आग लगा दी. उसका शरीर धू-धू करके जल रहा था.

वो जलते हुए सड़क पर दौड़ती रही
आग का गोला बनी लड़की को जिसने भी देखा उसका कलेजा कांप गया. वो लगातार मदद की गुहार लगा रही थी. मौके पर मौजूद चश्मदीदों ने पुलिस को कॉल की. और तो और उसी जलती हालत में पीड़िता ने खुद पुलिस से बात की और मदद के लिए बुलाया. थोड़ी ही देर में पुलिस मौके पर पहुंची औऱ उसे अस्पताल ले गई. लेकिन पहले नज़दीक के अस्पताल से लखनऊ और फिर लखनऊ से एयर एंबुलेंस के ज़रिए दिल्ली लाया गया. मगर इतनी कोशिश के बावजूद वही हुआ जिसे हर कोई टालना चाहता था.

मौत के मुंह में जाकर भी दिखाई हिम्मत
आखिरी वक्त में भी उसने अपने घरवालों से वादा लिया. मुझे इंसाफ ज़रूर दिलाना. मेरे गुनहगारों को फांसी ज़रूर दिलाना. ज़िंदगी का मज़ाक देखिए. वो मौत की तरफ भाग रही थी. लेकिन खुद मौत के शिकंजे में जकड़ीं होने के बावजूद वो हिम्मत नहीं हारना चाहती थी. सफदरजंग अस्पताल में जब-जब उसे होश आता वो सिर्फ एक ही बात कहती थी. मैं जीना चाहती हूं. पर अफसोस. दो दिनों का ग़म खत्म हो गया. जिन्दगी और मौत के बीच झूलते पल थम गए. क्या करें. चिता पर भस्म होने से पहले ही वो भस्म जो कर दी गई थी. लेकिन सवाल अब भी सुलग रहे हैं.

ऐसे शुरू हुई थी दरिंदगी की कहानी
6 दिसंबर की रात 11 बजकर 40 मिनट पर खत्म हुई दरिंदगी की ये खौफनाक कहानी शुरु हुई थी करीब डेढ़ साल पहले. जब उन्नाव के शिवम ने पीड़ित लड़की को अपनी गंदी और खौफनाक साजिशों का निशाना बनाया. दरअसल, इस मामले के मुख्य आरोपी शिवम के साथ शादी को लेकर पीड़ित लड़की का विवाद चल रहा था. इल्ज़ाम है कि शिवम ने शादी का झांसा देकर पीड़ित का यौन शोषण किया और वादे से मुकर गया. पीड़ित ने जब दबाव बनाया तो आरोपी शिवम ने कोर्ट से शादी के दस्तावेज भी तैयार करवाए. लेकिन इसके बावजूद वो पीड़ित को धोखा देकर फिर से गायब हो गया.

12 दिसंबर 2018
पीड़ित लड़की ने जब दोबारा आरोपी पर शादी का दवाब बनाया तो वो धमकी देने और ब्लैकमेलिंग पर उतर आया. लेकिन पीड़ित के बार बार कहने पर उसने एक बार फिर उसे बातचीत के लिए बुलाया. लेकिन बातचीत तो सिर्फ् बहाना थी. पीड़ित जब शिवम की बताई गई जगह पर पहुंची तो वहां शिवम के साथ उसका साथी शुभम भी था. दोनों ने पीड़ित को अपनी हैवानियत का शिकार बनाया.
गैंगरेप का शिकार हुई पीड़ित लड़की जब पुलिस के पास शिकायत दर्ज करवाने पहुंची तो आरोपियों का रसूख आरोपियों से भी बड़ा दुश्मन बन कर खड़ा. पीड़ित चक्कर लगा लगाकर हार गई लेकिन पुलिस ने एफआईआर दर्ज नहीं की.

4 जनवरी 2019
रायबरेली कोर्ट में केस दर्ज होने के बाद शिवम की गिरफ्तारी तो हो गई लेकिन उसके परिवार की तरफ से पीड़ित और उसके घरवालों को केस वापस लेने के लिए लगातार धमकियां मिलने लगी. कई बार तो पिता से मारपीट भी हुई.

3 दिसंबर 2019
पीड़ित के पिता को अंदाजा भी नहीं रहा होगा कि उसे दी जा रही धमकियां हकीकत के कितने नजदीक हैं. 1 दिसंबर को जेल से रिहा होते ही आरोपी शिवम ने अपने दोस्तों के साथ एक और खौफनाक साजिश बुन डाली.

5 दिसंबर 2019
जेल से रिहा होने के चौथे दिन ही शिवम ने आपनी साजिश को अंजाम दे दिया. पीड़ित अपने वकील से मिलने के लिए रायबरेली जाने की तैयारी में थी. लेकिन स्टेशन जाने के रास्ते में ही आरोपियों ने उसे घेरकर हमला कर दिया और जब वो गश खाकर ज़मीन पर गिर पड़ी तो आरोपियों ने उसे आग के हवाले कर दिया.

घटना के कुछ घंटों के अंदर ही पांचों आरोपी पुलिस की गिरफ्त में आ गए. पीड़ित को इलाज के लिए लखनऊ पहुंचाया गया. हालत बेहद नाजुक होने की वजह से एयरलिफ्ट करा के उसी रात उसे दिल्ली लाया गया. लेकिन सफदरजंग अस्पताल में भर्ती होने के करीब 24 घंटे बाद ही उसने दम तोड़ दिया.

फास्ट ट्रैक कोर्ट में चलेगा मुकदमा : योगी
यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने दुख जताते हुए कार्रवाई का आश्वासन दिया। उन्होंने कहा कि मुकदमे को त्वरित अदालत (फास्ट ट्रैक कोर्ट) में चलाकर अपराधियों को कड़ी सजा दिलाई जाएगी। सरकार के एक प्रवक्ता ने कहा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उन्नाव पीड़िता के सन्दर्भ में कहा कि घटना दुर्भाग्यपूर्ण है, उसकी मौत अत्यंत दुखद है। उनके द्वारा परिवार के प्रति पूरी संवेदना व्यक्त की गई। सभी अपराधी पुलिस के द्वारा गिरफ्तार किए जा चुके हैं।