सनसनी ऑफ़ इंडिया नेटवर्क
नई दिल्ली।
दिल्ली पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा (ईओडब्ल्यू) ने बैंक से करोड़ों की धेखाधड़ी में एक 64 वर्षीय बुजुर्ग को गिरफ्तार किया है। आरोपित की पहचान हरियाणा सोनीपत निवासी सुरेश कुमार के रूप में हुई है। उसने जमीन के फर्जी दस्तावेज पर कार्पोरेशन बैंक से चार करोड़ रुपये का लोन लिया था। लोन लेने के बाद से उसने कोई किश्त जमा नहीं की थी। इस मामले में अन्य आरोपित संतीश शर्मा को पुलिस पहले ही गिरफ्तार कर चुकी है।

दिल्ली पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा (ईओडब्ल्यू) ने बैंक से करोड़ों की धेखाधड़ी में एक 64 वर्षीय बुजुर्ग को गिरफ्तार किया है। आरोपित की पहचान हरियाणा सोनीपत निवासी सुरेश कुमार के रूप में हुई है।

ईओडब्ल्यू के संयुक्त पुलिस आयुक्त डा. ओ.पी. मिश्रा ने बताया कि संसद मार्ग स्थित यूको बैंक के अधिकारियों ने पुलिस में धोखाधड़ी की शिकायत दर्ज कराई थी। उन्होंने बताया था कि सतीश शर्मा नाम के शख्स ने सोनीपत में एक मॉडल स्कूल खरीदने के बहाने बैंक से दो करोड़ रुपये का लोन लिया था। लोन के लिए उसने सोनीपत के नरेंद्र नगर स्थित एक प्रापर्टी को बैंक के पास गिरवी रखा था। लोने लेने के बाद उसने एक भी रुपया नहीं चुकाया। जब बैंक ने इसकी छानबीन शुरू की तो पता चला कि उसी प्रापर्टी के कागजात पर सतीश शर्मा ने पहले से भी मायापुरी स्थित कार्पोरेशन बैंक से चार करोड़ रुपये का लोन ले रखा है।

इसके बाद में पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर मामले की छानबीन शुरू की। सतीश शर्मा ने जिस प्रापर्टी के कागजात पर बैंक से लोन लिया था उसकी जांच की गई तो वह फर्जी निकले। यह भी पता चला कि उक्त प्रापर्टी को फर्जी दस्तावेज के माध्यम से वर्ष 1998 में सुरेश कुमार ने सतीश शर्मा को बेचा था। दोनों ने साजिश के तहत बैंक से धोखाधड़ी की है। जिसके बाद एसीपी अमर दीप की टीम ने पहले मुख्य आरोपित सतीश शर्मा को दबोचा। वहीं, पुलिस ने 20 जनवरी को सोनीपत सेक्टर-14 निवासी अन्य आरोपित सुरेश कुमार को भी गिरफ्तार कर लिया।