सनसनी ऑफ़ इंडिया नेटवर्क
नॉएडा। पुलिस के मुताबिक विजयवर्गीय के खिलाफ कई अन्य केस भी दर्ज हैं जिनकी जांच चल रही है. विजयवर्गीय अर्थ कंपनी में धोखाधड़ी और अन्य कई मुकदमे में वांछित था. नोएडा क्राइम ब्रांच कई दिनों से इसकी तलाश में थी. रविवार की शाम को विजयवर्गीय के मूल स्थान रोहणी नॉर्थ दिल्ली से गिरफ्तार किया गया.

नोएडा क्राइम ब्रांच को उस वक्त एक बड़ी कामयाबी हाथ लगी जब नॉर्थ दिल्ली में दबिश देकर अर्थ सोसायटी के बिल्डर को गिरफ्तार कर लिया गया. बिल्डर रतन विजयवर्गीय पर धोखाधड़ी करने का आरोप है.

गिरफ्त में आरोपी बिल्डर

नोएडा क्राइम ब्रांच ने अर्थ कंपनी के मालिक और बिल्डर रतन विजयवर्गीय को उनके मूल निवास सी – 8/251 सेक्टर 8, रोहिणी से गिरफ्तार किया गया. पुलिस के मुताबिक विजयवर्गीय के खिलाफ कई अन्य केस भी दर्ज हैं जिनकी जांच चल रही है. विजयवर्गीय अर्थ कंपनी में धोखाधड़ी और अन्य कई मुकदमे में वांछित था. नोएडा क्राइम कई दिनों से इसकी तलाश में थी. रविवार की शाम को विजयवर्गीय के मूल स्थान रोहणी नॉर्थ दिल्ली से गिरफ्तार किया गया.

एडीसीपी रणविजय सिंह ने बताया कि 2018 में इसके खिलाफ एक मुकदमा थाना 20 में पंजीकृत हुआ था. इसकी जांच नोएडा क्राइम ब्रांच कर रही थी. तथ्य सही पाए जाने पर क्राइम ब्रांच ने इसे इसके मूल निवास सी – 8/251 सेक्टर 8, रोहिणी थाना, रोहिणी नॉर्थ दिल्ली के पास से गिरफ्तार किया है. इसके खिलाफ अन्य कई केस पंजीकृत हैं. पुलिस आगे की कानूनी कार्रवाई कर रही है. बिल्डर पर आरोप है कि उसने हजारों लोगों को घर का सपना दिखाकर उनके साथ धोखाधड़ी की. हजारों लोगों से उसने घर के लिए पैसे वसूले लेकिन घर नहीं दिए. पिछले तीन साल से पुलिस उसकी तलाश कर रही थी. जिन लोगों के पैसे फंसे हैं, उन्होंने पुलिस से शिकायत की थी जिसके बाद कार्रवाई की गई. नोएडा थाना 20 के अलावा उसके खिलाफ एनसीआर के कई शहरों में केस दर्ज हैं. इस मामले में कंपनी के और भी कर्मचारी गिरफ्तार हो चुके हैं. कंपनी पर आरोप है कि इसने निर्माण के नाम पर पैसे वसूले लेकिन कोई प्रोजेक्ट शुरू नहीं किया.