पॉश इलाकों में चोरी करने वाले ‘भेड़िया गैंग’ का भंडाफोड़

0

विजय कुमार दिवाकर
स्पेशल स्टाफ दक्षिण दिल्ली ने दो ऐसे शातिर चोरों को दबोचा है जिन्होंने अपना घर का खर्चा चलाने के लिए नौकरी या कारोबार करने की वजाये शार्ट कट तरीके से जल्दी और मोटा पैसा कमाने के लालच में अपना ‘भेड़िया गैंग’ बनाकर चोरी की वारदातों को अंजाम देना शुरू कर दिया। लेकिन स्पेशल स्टाफ दक्षिण दिल्ली शातिर चोरों से चार कदम आगे निकला और चोरों की modus operandi से ही गैंग का भंडाफोड़ कर दिया। आरोपियों की पहचान सादिक उर्फ भेड़िया और समीर आलम सैंड के रूप में हुई। दोनों यूपी बिजनौर के रहने वाले हैं। आरोपियों के पास से चोरी के पांच मोबाइल फोन, दो लैपटॉप व एक donation book बरामद हुए हैं।

दिल्ली के पॉश इलाकों में गाड़ियों से लैपटॉप व राह चलते लोगों से मोबाइल लूटने वाले गैंग ने आंतक मचा रखा था। यह गैंग दिन हो या रात मौका मिलते ही खड़ी और चलती गाड़ियों से लैपटॉप व मोबाइल चोरी कर लिया करता था।

दक्षिण जिला डीसीपी बेनीटा मेरी जैकर ने चोरी की वारदातों पर अंकुश लगाने और आरोपियों को जल्द से जल्द दबोचने का काम राजेश कुमार एसीपी ऑपरेशंस की सुपरविजन व इंस्पेक्टर अतुल त्यागी इंचार्ज स्पेशल स्टाफ दक्षिण जिला के नेतृत्व में एएसआई अशोक कुमार, हेड कांस्टेबल पंकज कुमार, कांस्टेबल योगिन्दर, अशोक कुमार व पुष्पेंदर की एक टीम को सौंपा।

स्पेशल स्टाफ दक्षिण दिल्ली के अनुभवी और तेजतर्रार इंस्पेक्टर अतुल त्यागी ने सबसे पहले पॉश इलाकों में खड़ी व चलती गाड़ियों से लैपटॉप व मोबाइल चोरी की वारदातों को अंजाम देने वाली गैंगो की modus operandi को बारीकी से analyzed किया।

क्राइम और क्रिमिनलों की modus operandi से इंस्पेक्टर अतुल त्यागी को पता चला की यह गैंग ज्यादातर पॉश इलाकों में खड़ी व चलती गाड़ियों में रखे लेपटॉप को टारगेट करता है। इंस्पेक्टर अतुल त्यागी को पूरा भरोसा था की यह गैंग चोरी के लैपटॉप कहीं न कहीं तो बेचता होगा।

इंस्पेक्टर अतुल त्यागी के नेतृत्व में स्पेशल स्टाफ दक्षिण दिल्ली की एक टीम ने दिल्ली एनसीआर में पुराने लैपटॉप में डील करने वाले लोगों पर नजर रखनी शुरू कर दी। साथ ही मुखबिरों को नेहरू प्लेस की लैपटॉप व कंप्यूटर मार्किट में भी एक्टिव कर दिया।

इंस्पेक्टर अतुल त्यागी की मेहनत रंग लाई। इंस्पेक्टर अतुल त्यागी को मुखबिरों से पता चला की नेहरू प्लेस में दो व्यक्ति बिना बिल के एक साथ दो-तीन पुराने लैपटॉप
औनेपौने दामों पर बेचने की कोशिश कर रहे हैं। बिल न होने की बजह से दुकानदारों ने लैपटॉप खरीदने से इंकार कर दिया है और इस कारण सस्पेक्ट दो व्यक्तियों में से एक व्यक्ति पुराने लैपटॉप लेकर वापस चला गया है और एक सस्पेक्ट व्यक्ति घूमघूमकर बिना बिल के पुराने लैपटॉप बेचने की कोशिश कर रहा है। एक साथ दो तीन पुराने लैपटॉप वो भी बिना बिल के इंस्पेक्टर अतुल त्यागी को शक हुआ और मुखबिरों को सस्पेक्ट व्यक्ति पर नजर रखने को कहा।

मुखबिरों ने सस्पेक्ट व्यक्ति का चुपके से फोटो खींचकर इंस्पेक्टर अतुल त्यागी को व्हाट्सअप कर दिया।

इंस्पेक्टर अतुल त्यागी ने तुरंत ही फोटो को क्रिमिनल डाटा में स्कैन किया तो पता चला की सस्पेक्ट व्यक्ति भेड़िया गैंग का सरगना सादिक उर्फ़ ​​भेड़िया है। और इसके खिलाफ पहले भी थाना तिमारपुर व थाना जामिया नगर में चोरी के मामले दर्ज हैं।

इंस्पेक्टर अतुल त्यागी के कहने पर मुखबिरों ने सादिक उर्फ़ ​​भेड़िया से पुराने लैपटॉप खरीदने की बात की। सादिक उर्फ ​​भेड़िया तुरंत पुराने लैपटॉप बेचने को तैयार हो गया और डीडीए पार्क, संगम विहार पर थोड़ी देर में मिलने को कहा।

टीम ने डीडीए पार्क, संगम विहार के पास जाल बिछाया। मुखबिर के इशारा करने पर टीम ने तुरंत कार्रवाई करते हुए दो लोगों को दबोच लिया। दोनों आरोपियों की पहचान कस्बा किरतपुर बिजनौर यूपी निवासी समीर आलम पुत्र अबीदु रहमान व सादिक उर्फ भेड़िया पुत्र मोहम्मद हाफिज के रूप में हुई है।

पूछताछ में दोनों आरोपियों ने बताया की उन्हें नशे की लत है। अपनी नशे की लत पूरी करने और घर का खर्चा चलाने के लिए नौकरी या कारोबार करने की वजाये शार्ट कट तरीके से जल्दी और मोटा पैसा कमाने के लालच में अपना ‘भेड़िया गैंग’ बनाकर पॉश इलाकों में चोरी की वारदातों को अंजाम देना शुरू कर दिया। आरोपियों के पास से चोरी के पांच मोबाइल फोन, दो लैपटॉप व एक donation book बरामद हुए हैं।

स्पेशल स्टाफ दक्षिण दिल्ली टीम को इस good work के लिए उचित पुरस्कार दिया जा रहा है।

सनसनी ऑफ़ इंडिया नेटवर्क