क्राइम ब्रांच सेक्टर 48 : घर में खजाना दबे होने का झांसा देकर की ठगी, 2 तांत्रिक गिरफ्तार

0

विजय कुमार दिवाकर
फरीदाबाद।
दिल्ली से सटे हरियाणा के फरीदाबाद में पुलिस की क्राइम ब्रांच ने लोगों से खजाने के नाम पर पैसा ठगने वाले दो शातिर ठगों को गिरफ्तार किया है. दोनों आरोपी तांत्रिक बताए जा रहे हैं. ये लोगों को उनके घर में खजाना दबे होने का झांसा देते थे और खजाना निकालने के ड्रामा करते थे. इसी बीच मौका देखकर घर से पैसा आदि लेकर फरार हो जाते थे.

दरअसल, मंगलवार को सेक्टर 58 में रहने वाली नीतू नामक महिला ने पुलिस को शिकायत देकर बताया कि उनके घर में कुछ दिनों से अजीब तरह की आवाजें आ रही हैं. जिसके लिए उन्होंने तंत्र-मंत्र का सहारा लिया और कुछ तांत्रिकों से संपर्क किया. नीतू ने तांत्रिकों को अपने घर में जांच के लिए बुलाया.

दो तांत्रिक वहां पहुंचे और घर में दाखिल होते ही उन दोनों ने नीतू से कहा कि उनके घर में तो खजाना दबा हुआ है. वे दोनों खजाना निकाल देंगे. लेकिन इसकी एवज में वे खजाने का 25 फीसदी लेंगे. घर में आ रही आवाज़ों का समाधान करने और खजाना निकालने की बात से नीतू का परिवार उनके झांसे में आ गया. इसके बाद आरोपी तांत्रिक घर से कुछ पैसे लेकर फरार हो गए.

नीतू की शिकायत पर पुलिस ने थाना सेक्टर 58 में धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया. मामले की जांच क्राइम ब्रांच सेक्टर 48 को सौंपी गई. क्राइम ब्रांच ने अपने विशेष सूत्रों और इलेक्ट्रॉनिक सर्विलांस का इस्तेमाल किया. नतीजा ये हुआ कि दोनों आरोपी तांत्रिक फरीदाबाद के बडकल इलाके से पकड़े गए. आरोपियों की पहचान नवाब और शमशाद के तौर पर हुई. ये दोनों यूपी के सहारनपुर के निवासी हैं.

पूछताछ में आरोपियों ने बताया कि वे इसी तरह झांसा देकर दिल्ली, राजस्थान, यूपी और हरियाणा में कई लोगों को ठग चुके हैं. क्राइम ब्रांच के मुताबिक आरोपी फरार होने की जल्दबाजी में 24 लाख रुपये और ज्वैलरी नीतू के घर पर ही छोड़ गए थे, जो शिकायतकर्ता को घर पर ही मिल गए हैं. आरोपी केवल 11 हजार रुपये लेकर फरार हुए थे.

पुलिस ने उनके पास से 6 हजार रुपये कैश बरामद किए हैं. दोनों को अब अदालत में पेश किया जाएगा. पुलिस उपायुक्त (मुख्यालय) डॉक्टर अर्पित जैन ने लोगों से अपील करते हुए कहा कि वे तांत्रिक विद्या के चक्कर में आकर ठगी के शिकार ना हों. उन्होंने कहा कि अक्सर सार्वजनिक दीवारों और बसों पर पर्चे या स्टीकर लगे होते हैं. जिनमें मोबाइल नंबर भी दिए जाते हैं.

अपना प्रचार करने वाले तांत्रिक ये दावा करते हैं कि पारिवारिक समस्या, वशीकरण, नौकरी में अड़चन, व्यापार इत्यादि में समस्या हो तो संपर्क करें. ऐसे ही लोग आम लोगों की परेशानी का फायदा उठाकर झांसा देते हैं और तरह-तरह के ढोंग कर पैसा वसूलते हैं. ऐसे में इस तरह के तांत्रिकों के बहकावे में ना आएं और अपनी कमाई को सुरक्षित रखें .

क्राइम ब्रांच सेक्टर 48 ने इलेक्ट्रॉनिक सर्विलांस से पकड़ा आरोपियों को

मकान में अजीब सी आवाजें आने पर मांगी थी दोस्त से मदद
थाना सेक्टर-58 निवासी नीतू मीना ने शिकायत दी है कि दिसंबर में उनके मकान में अजीब सी आवाजें आती थीं। दरवाजे अपने आप ही खुल जा रहे थे। जिससे वह और उनका परिवार घबरा गया। उन्होंने अपने दोस्त साजिद से इस मामले में मदद मांगी। साजिद उसे सहारनपुर लेकर गया। जहां वे तसरीफ नाम के व्यक्ति के घर 3 दिन रुके। इस दौरान पीड़िता ने अपनी परेशानी तौसीफ से साझा की। तौसीफ ने कई तांत्रिकों से मिलवाने की बात कही। मगर नीतू बिना मिले अपने घर वापस आ गईं। पीड़िता ने पुलिस को बताया कि घर वापस आने के बाद कई तांत्रिकों के कॉल आने लगे। सभी तसरीफ का नाम लेकर समस्या को दूर करने का दावा करने लगे। इन्हीं में से एक तांत्रिक ने उन्हें झांसे में ले लिया और रविवार को सुबह 11:30 बजे अपने दो अन्य साथियों के साथ उनके घर आ धमका।

खजाना दफन का दिया लालच
पीड़िता ने पुलिस को बताया कि आरोपी तांत्रिक ने घर में प्रवेश करते ही कहा कि घर के नीचे बड़ी मात्रा में खजाना दफन है। उसने यह भी कहा कि खजाना निकलने पर उन्हें उस खजाने का 25% हिस्सा देना होगा। जिसके बाद आरोपी ने अपने साथियों के साथ तंत्र विद्या का ड्रामा शुरू कर दिया। फिर अपने दावों और बातों में परिवार के लोगों को सम्मोहित कर लिया।

25 लाख लाओ खजाना ले जाओ
पीड़िता ने बताया कि तांत्रिकों ने उनसे 25 लाख रुपये लाने को कहे। पीड़िता के परिवार ने बीते दिनों राजस्थान में अपनी पुरानी जमीन बेची थी। जिसके 16 लाख रुपये उन्हें मिले थे। इसके साथ ही घर में परिवार के खातों से पीड़िता ने 8 लाख रुपये और जुटा लिए। जिसके बाद उन्होंने 24 लाख रुपये व 1 लाख के करीब के जेवरात तांत्रिक के कहने पर घर के एक कमरे में लाकर रख दिए।

सोने का सिक्का दिखा दिया झांसा
पीड़िता ने बताया कि पैसे व जेवरात रखने के बाद आरोपी तांत्रिक ने एक सोने का सिक्का दिखाकर दावा किया कि यह सिक्का उनके घर से निकला है। जिसे उन्हें प्रवाहित करना होगा। जिसके बाद उनकी परेशान दूर हो जाएगी। फिर तांत्रिक उनकी मां के साथ उसे प्रवाहित करने गए और लौटकर घर के दरवाजे पर कहने लगे कि उन्हें भूख लगी है और वे खाना खाने जा रहे हैं।

खाना खाने की बात कहकर हुए फरार
पीड़िता ने बताया कि इस बात पर उन्हें तांत्रिक पर शक हुआ तो उन्होंने घर में ही उन्हें खाना खिलाने की बात कही। इसपर वह उनके भाई को साथ लेकर जाने की बात कहने लगे। जब परिवार नहीं माना तो आरोपितों ने घर पर ही खाना लाने को कहा। पीड़िता का परिवार जब खाना लेने घर के ऊपर गया, उतनी ही देर में तीनों अपनी गाड़ी UP-11-AP-9796 से कैश व जेवरात लेकर फरार हो गए।

क्राइम ब्रांच सेक्टर 48 ने इलेक्ट्रॉनिक सर्विलांस से पकड़ा आरोपियों को
नीतू की शिकायत पर पुलिस ने थाना सेक्टर 58 में धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया. मामले की जांच क्राइम ब्रांच सेक्टर 48 को सौंपी गई. क्राइम ब्रांच ने अपने विशेष सूत्रों और इलेक्ट्रॉनिक सर्विलांस का इस्तेमाल किया. नतीजा ये हुआ कि दोनों आरोपी तांत्रिक फरीदाबाद के बडकल इलाके से पकड़े गए. आरोपियों की पहचान नवाब और शमशाद के तौर पर हुई. ये दोनों यूपी के सहारनपुर के निवासी हैं.