सनसनी ऑफ़ इंडिया नेटवर्क
हिमाचल प्रदेश, सोलन।
हिमाचल प्रदेश के सोलन जिले में हरियाणा के कालका के विधायक प्रदीप चौधरी को 3 साल की कैद सजा सुनाई गई है। उनके अलावा 14 और शामिल हैं। इन्हें भी तीन-तीन साल की सजा और 85 -85 हजार जुर्माने की सजा दी गई है। मामला साढ़े 9 साल पुराना है, जब एक युवक की मौत के बाद रोषस्वरूप रोड जाम किया गया था। रास्ता रोकने और सरकारी काम में बाधा डालने का मामला थाने में दर्ज हुआ था। अब गुरुवार को इस मामले में कोर्ट ने फैसला सुनाया है।

हरियाणा के पंचकूला जिले में कालका से कांग्रेस विधायक प्रदीप चौधरी, जिन्हें हिमाचल प्रदेश की नालागढ़ कोर्ट ने 3 साल की कैद सजा सुनाई है।

31 मई 2011 को थाना बरोटीवाना में ट्रैफिक चैकिंग के दौरान सुना सिंह निवासी पप्सोहा पुलिस को देखकर बचने की कोशिश में दौरान बिजली ट्रांसफार्मर की तारों की चपेट में आ गया था। उसकी इलाज क दौरान चंडीगढ़ PGI में मौत हो गई थी तो इसके बाद परिजन और अन्य लोगों ने लाश को लेकर बद्दी रेड लाइट चौक पर प्रदर्शन किया था। इस दौरान पुलिस के ऊपर हमला कर दिया गया था और हमले में कई पुलिस कर्मचारी जख्मी हो गए थे। पुलिस की सरकारी बद्दी पुलिस थाने की सरकारी गाड़ी भी फूंक दी गई थी।

13 जून 2011 को बद्दी थाने में रास्ता रोकने और सरकारी काम में बाधा डालने का मामला दर्ज हुआ था। सहायक जिला न्यायवादी गौरव अग्रिहोत्री ने बताया कि गुरुवार को इस मामले में नालागढ़ की P जितेंदर कुमार की अदालत ने 15 लोगों को दोषी माना है। इनमें हरियाणा के पंचकूला जिले में कालका से कांग्रेस विधायक प्रदीप चौधरी के अलावा 14 और लोग शामिल हैं। कोर्ट ने सभी को 3-3 साल की कैद और 85-85 हजार जुर्माने की सजा फैसला सुनाया है।