एक्ट्रेस सोनम कपूर के घर चोरी, एक फोन कॉल से खुल गया राज

0

विजय कुमार दिवाकर
बॉलीवुड अभिनेत्री सोनम कपूर की ससुराल में हुई दो करोड़ इकतालिस लाख के गहनों की ब्लाइंड चोरी के मामले को जहां स्थानीय पुलिस की लगभग एक दर्जन टीमें सुलझाने का प्रयास करती रहीं वहीं क्राईम ब्रांच दक्षिणी रेंज आरके पुरम की टीम ने मात्र एक फोन काॅल से ब्लाइंड चोरी के मामले को सुलझाते हुए तीन आरोपियों को दबोचने में बड़ी सफलता हासिल की है। आरोपियों की पहचान पीड़िता के घर में नर्स का काम करने वाली 31 वर्षीय अपर्णा रूथ विल्सन, 31 वर्षीय उसका पति नरेश कुमार सागर और आरोपियों से चोरी की ज्वेलरी खरीदने वाला कालकाजी स्थित वर्मा ज्वेलर्स के मालिक 40 वर्षीय देव वर्मा के रूप में हुई है। आरोपियों से चोरी के 100 डायमंड, 6 सोने की चेन, डायमंड की चूड़ियाँ, एक डायमंड का कंगन, दो टाॅप्स, एक पीतल का सिक्का और चोरी के गहने बेचकर खरीदी एक आई 10 कार बरामद हुए हैं।

क्राईम ब्रांच डीसीपी रोहित मीणा ने बताया कि दिनांक 23 फरवरी 2022 को बॉलीवुड अभिनेत्री सोनम कपूर के ससुर हरीश आहूजा की तरफ से नितेश गेरा ने थाना तुगलक रोड़ में शिकायत दर्ज कराई कि हरीश आहूजा जी की मां के कमरे से करोड़ों के गहने और नकदी चोरी हो गई है। हरीश आहूजा जी की उम्र करीब 86 साल है और अस्वस्थ रहते है जिस वजह से चोरी की शिकायत दर्ज कराने स्वंय नहीं आ सकते हैं। शिकायत के आधार पर एफआईआर संख्या 41/2022 धारा 381 के तहत मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी गई।

स्थानीय पुलिस की लगभग एक दर्जन टीमें अपने स्तर पर चोरी के मामले को सुलझाने का प्रयास करने लगी लेकिन हाई प्रोफाइल मामला बताते हुए इसे क्राइम ब्रांच को सौंप दिया गया।

जिम्मेदारी मिलते ही क्राईम ब्रांच डीसीपी रोहित मीणा ने एसीपी संतोष कुमार क्राईम ब्रांच दक्षिणी रेंज की सुपविजन में इंस्पेक्टर गगन भास्कर, इंस्पेक्टर नरेश सोलंकी व इंस्पेक्टर जय प्रकाश के नेतृत्व में एसआई कृष्ण कुमार, एसआई सम्राट खटियान, एसआई प्रमोद, हैड कांस्टेबल विनोद, राजेन्द्र, कांस्टेबल घनश्याम व सूर्य देव की एक टीम का गठन किया।

जांच टीम के सामने सबसे बड़ी चुनौती चोरी की वारदात का सही समय और चोरी कितने दिन पहले हुई होगी उसके बारे में पता लगाना था। पीड़ित परिवार ने पूछताछ में बताया कि लास्ट टाईम लगभग एक साल पहले ज्वेलरी को चेक किया था तब सब कुछ ठीक था लेकिन लेकिन इस बीच ज्वेलरी को इस्तेमाल नहीं किया।

क्राईम ब्रांच दक्षिणी रेंज के तेज तरार्र एसीपी संतोष कुमार कोे पीड़ित परिवार की बातचीत से एक क्लू मिला की ज्वेलरी की चोरी की वारदात को अंजाम एक साल के अन्दर ही दिया गया है। एसीपी संतोष कुमार के आदेश पर जांच टीम ने लास्ट टाईम देखी गई ज्वेलरी के समय से पीड़ित परिवार के घर में काम करने वाले और काम छोड़ चुके 32 से अधिक कर्मचारियों, 6 नर्सों, रिश्तेदारों और पीड़ित परिवार से मिलने आने वाले व्यक्तियों को बारिकी से स्कैन किया और सभी के मोबाईल फोन सर्विलांस पर लगा दिये। कमरे में लगे सीसीटीवी फुटेज को भी खंगाला।

इंस्पेक्टर गगन भास्कर की टीम ने एक एक करके सभी सस्पेक्ट कर्मचारियों, नर्सों व रिश्तेदारों को चोरी के मामले में पूछताछ के लिए काॅल की। टीम ने एक नर्स अपर्णा रूथ विल्सन को फोन किया कि उसे सोनम कपूर की ससुराल में हुई चोरी मामले में पूछताछ करनी है। पुलिस का फोन आते ही अपर्णा घबरा गई और उसने तुरंत अपने पति को फोन कर बताया कि उसके पास पुलिस का फोन आया है और वह पूछताछ के लिए बुला रहे है। इस पर उसके पति नरेश ने कहा था कि उसे ज्वेलरी चोरी करने के मामले में पुलिस को कुछ नहीं बताना है। चोरी करने की बात स्वीकार नहीं करनी है। क्योंकि क्राईम ब्रांच दक्षिणी रेंज ने अपर्णा के फोन को सर्विलांस पर ले रखा था और अतः उसकी व उसके पति की बात पुलिस ने सुन ली।

इंस्पेक्टर गगन भास्कर ने तुरन्त एसीपी संतोष कुमार के साथ इन्फोरमेशन शेयर की। ब्रांच दक्षिणी रेंज ने थाना तुगलक रोड पुलिस स्टाॅफ के साथ मिलकर सरिता विहार में छापेमारी की और नर्स अपर्णा रूथ विल्सन और उसके पति नरेश कुमार सागर उनके घर से दबोच लिया। आरोपी नर्स अपर्णा रूथ विल्सन और उसके पति नरेश कुमार सागर ने अपना जुर्म कबूल कर लिया। आरोपी नरेश ने कबूल किया कि उसने चोरी के गहने 24 कैरेट गोल्ड कालकाजी और वर्मा ज्वैलर नामक दुकान पर बेचे थे।

पुलिस अधिकारियों का कहना है कि अगर अपर्णा मोबाइल का इस्तेमाल नहीं करती तो शायद वह पकड़ी नहीं जाती। आरोपी नरेश ने कबूल किया कि उसने चोरी के गहने 24 कैरेट गोल्ड कालकाजी और वर्मा ज्वैलर्स कालकाजी की दुकान पर बेचे थे।
आरोपी नरेश के इशारा पर वर्मा ज्वैलर्स के मालिक देव वर्मा कालकाजी को पकड़कर पूछताछ की गई। देव वर्मा ने कबूल किया कि उसने नरेश से चोरी के गहने खरीदे थे और बदले में नकद और ऑनलाइन लेनदेन के माध्यम से भुगतान किया था। मामले में देव वर्मा को गिरफ्तार कर लिया गया है। वर्मा ज्वैलर्स के देव वर्मा के कहने पर कालकाजी स्थित उसकी दुकान से इस मामले से संबंधित सामग्री बरामद की गई।

आरोपी अपर्णा और नरेश कुमार से पूछताछ की गई। अपर्णा ने खुलासा किया कि वह स्थायी रूप से लखनऊ के आलम बाग की रहने वाली हैं। वर्ष 2013 में उसने सीतापुर, इलाहाबाद में एक नर्सिंग स्कूल से कोर्स किया और उसके बाद 2014 से 2015 तक, उसने देहरादून के एक अस्पताल में नर्स के रूप में काम किया। वर्ष 2015 में वह नौकरी की तलाश में दिल्ली आई और उसने पश्चिम विहार, वैशाली और कौशांबी के अस्पतालों में नर्स के रूप में काम किया और वर्तमान में दिल्ली के एक अपोलो अस्पताल में काम कर रही थी। वर्ष 2017 में उसने अपने फेसबुक फ्रेंड नरेश कुमार सागर से शादी कर ली थी।

बॉलीवुड अभिनेत्री सोनम कपूर की दादी सास सरला अहूजा की देखभाल के लिए नौ नर्स रखी हुई थी। अपर्णा शाम सात बजे से सुबह सात बजे तक ड्यूटी करती थी। यहां पर नर्स बदल बदल कर ड्यूटी करती थीं। अपर्णा अपोलो में अस्पताल में नर्स का काम करती थी। अपर्णा को मार्च 2021 में पीड़ित परिवार के पास ड्यूटी करने के लिए अपोलो अस्पताल की ओर से भेजा गया था।

शुरू में सरला अहूजा ने अपर्णा से अलमारी खोलकर कुछ ज्वेलरी देने को कहा था। एक दिन अपर्णा सरला अहूजा को व्हीलचेयर पर अलमारी तक ले गई, जहां आरोपी नर्स ने देखा कि उस अलमारी में करोड़ों के गहने और नकदी पड़ी है। करोड़ो के गहने देखकर आरोपी नर्स के मन मे लालच जाग गया। शुरू में वह एक एक करके ज्वेलरी चुराकर ले जाती रही।

घर पर जब पति ने पूछा तो उसने बताया कि उसे मालकिन ने गिफ्ट दिया है। बाद में जब वह और ज्वेलरी को चुराकर ले जाती रही तो पति नरेश कुमार को सारी बात बता दी। इसके बाद नरेश कुमार चोरी की ज्वेलरी को ज्वेलर के पास ले जाकर बेचने लगा।

पूछताछ में अपर्णा ने बताया कि वह नींद की गोलियां देकर उनके तकिये के नीचे रखी अलमारी की चाबी ले लेती थी और गहने चोरी करती थी।

नर्स का कहना है कि उस पर चार लाख रुपये का कर्जा था। इस कारण वह ज्वेलरी चुराने लगी। बाद में उसे ज्वेलरी चुराने की आदत पड़ गई। वह मार्च, 21 से ज्वेलरी चुराने लगी थी और उसने अक्तूबर, 21 तक ज्वेलरी चुराई थी।

नर्स व उसके पति ने ज्वेलरी को बेचकर अपना चार लाख रुपये का कर्ज उतारा। अपने माता-पिता का इलाज करवाया और सेकेंड हैंड आई-10 कार खरीदी थी। पीड़ित के घर से चुराया गया एक पीतल का सिक्का भी आरोपियों के कब्जे से बरामद कर लिया गया है।

सनसनी आफ इंडिया नेटवर्क