नासा की सैटेलाइट से डरे आरोपियों ने कबूला जुर्म

0

देश की राष्ट्रीय राजधानी में दिल्ली पुलिस ने दो आरोपियों को गिरफ्तार किया है जो इतने शातिर हैं कि पुलिस को जांच के दौरान लगातार भटकाते रहे. फिर पुलिस ने आरोपियों का नासा की सैटेलाइट का ऐसा डर दिखायाकि उन्होंने कत्ल को अंजाम देने की बात कबूल कर ली. यहां से बरामद हुआ था शव दिल्ली के मंगोलपुरी इलाके के रहने वाले चंद्रभान की 5 अप्रैल रविवार की रात गला रेतकर हत्या कर दी गई थी। सोमवार सुबह मंगोलपुरी की ट्रक मार्केट के पास चंद्रभान का शव बरामद हुआ था। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर मामले की छानबीन शुरू कर दी थी। चंद्रभान एक प्रिंटिंग प्रेस में काम करता था और मई में उसकी शादी होने वाली थी। परिजनों ने पुलिस को बताया था की रविवार शाम को वह काम से घर लौटा तो उसको किसी दोस्त का फोन आया। इसके बाद वह स्कूटी लेकर घर से चला गया और रात भर नहीं आया। सुबह जब तलाश की गई तो उसका शव बरामद हुआ सीसीटीवी की मदद से नहीं मिला कोई सुराग मंगोलपुरी थाने के एसएचओ मुकेश कुमार ने अपने नेतृत्व में टीम बनाकर आरोपियों की पहचान शुरू की. पुलिस ने आसपास के लोगों से पूछताछ की और सीसीटीवी फुटेज को भी बारीकी से देखा. पुलिस को न तो कोई चश्मदीद मिला और न ही सीसीटीवी से कोई मदद. इस बीच पुलिस ने शव की पहचान मंगोलपुरी के रहने वाले चंद्रभान उर्फ चंदा (35) के तौर पर की. आरोपियों तक ऐसे पहुंची पुलिस पुलिस ने अपनी जांच को आगे बढ़ाते हुए टेक्निकल सर्विलांस की मदद ली. फिर लोकल इंटेलिजेंस के जरिए पुलिस को पता चला कि आखिरी बार मृतक चंद्रभान दो लोगों के साथ बाइक पर देखा गया था. इसके बाद उस बाइक के बारे में जानकारी जुटाई गई. फिर पुलिस दो संदिग्ध प्रदीप और राजू तक पहुंच गई. पुलिस को गुमराह करते रहे आरोपी बता दें कि प्रदीप पेशे से सेल्समैन और राजू पेंटर का काम करता है. जब दोनों से मर्डर के बारे में पूछताछ की गई तो वे पुलिस को गुमराह करने के साथ-साथ भटकाते रहे. लेकिन पुलिस के पास टेक्निकल एविडेंस थे. जिस दिन मर्डर हुआ, उस दिन दोनों के मोबाइल लोकेशन मौका-ए-वारदात की थी. जिसकी वजह से पुलिस को दोनों आरोपियों पर शक हुआ. लेकिन आरोपी कत्ल की बात कबूल नहीं रहे थे. इस वजह से पुलिस ने दोनों आरोपियों को छोड़ दिया. गौरतलब है कि पुलिस ने आरोपियों को छोड़ने के बाद उन पर नजर रखना शुरू किया और तमाम जानकारी जुटाई. इसके बाद दोनों को एक बार फिर थाने में बुलाया गया. दोनों से फिर पूछताछ की गई. जो सबूत पुलिस को मिले थे उसको वैरिफाई किया गया लेकिन इस बार भी दोनों ने पुलिस को गुमराह किया. ऐसे दिखाया नासा की सैटेलाइट का डर इस बीच एसएचओ मुकेश कुमार ने दोनों को डराने का प्लान बनाया और फिर नासा की सैटेलाइट के बारे में बताकर डर दिखाया. दोनों आरोपियों को बताया गया कि जिस दिन ये वारदात हुई थी तुम दोनों साथ थे. सैटेलाइट से तस्वीरें हमारे पास आ गई हैं. इस इलाके में नासा की सैटेलाइट नजर रखती है. ये बात सुनते ही दोनों आरोपी डर गए और हत्या की बात कबूल कर ली. दोनों आरोपियों ने बताया कि 4 अप्रैल को प्रदीप, राजू और मृतक चंद्रभान ने मिलकर शराब पी थी और झगड़े का दौरान चंद्रभान की हत्या कर दी.