सनसनी ऑफ़ इंडिया नेटवर्क
नई दिल्ली। सागरपुर थाना पुलिस ने सड़क किनारे खड़ी कारों की बैटरी चुराने वाले गिरोह के बदमाशों को दबोचा है। पुलिस ने सिर्फ बैटरी पर हाथ साफ करने वाले बल्कि चुराई गई बैटरी खरीदने वाले आरोपितों को भी पकड़ा है। कुल मिलाकर छह आरोपित गिरफ्तार किए गए हैं। आरोपितों की निशानदेही पर पुलिस ने 16 बैटरी व बैटरी से जुड़े उपकरण बरामद किए हैं।

पुलिस ने दो कार भी बरामद किए हैं जिनका इस्तेमाल बदमाश वारदात अंजाम देने में करते थे। दोनों कार पर फर्जी नंबर प्लेट लगाए गए थे ताकि कार की सही पहयान न हो। आरोपितों की पहचान उत्तर प्रदेश के मुस्तफाबाद निवासी चांद मोहम्मद, मो. जीशान, गाजियाबाद निवासी मो. जावेद, लक्षमी नगर निवासी अबनीश पाल, करावल नगर निवासी उदयवीर, हर्ष विहार निवासी संजय पाल के रूप में हुई है।

इनमें उदयवीर को छोड़कर सभी पर पूर्व में बैटरी चोरी के मामले दर्ज हैं। दक्षिणी पश्चिमी जिला पुलिस उपायुक्त देवेंद्र आर्या ने बताया कि वेस्ट सागरपुर में कार से बैटरी चोरी की कई शिकायतें मिल रही थी। चार सितंबर को एक साथ चार मामले सामने आए। मामले की गंभीरता को समझते हुए थाना प्रभारी इंस्पेक्टर सूबे सिंह के नेतृत्व में टीम का गठन किया गया। टीम ने घटनास्थल के आसपास लगे सीसीटीवी कैमरे के फुटेज खंगाले। एक जगह फुटेज में एक कार नजर आई। कार पर लगे नंबर प्लेट की जब जांच की गई तो पता चला कि यह फर्जी है। फुटेज में दो लोग भी नजर आए। फुटेज में नजर आए एक शख्स की पहचान मो. जीशान के रूप में हुई।

इसपर पूर्व में बैटरी चोरी के दस मामले दर्ज हैं। आरोपित को उत्तर प्रदेश के मुस्तफाबाद से गिरफ्तार किया गया। पूछताछ में इसने अपने साथियों चांद मोहम्मद, अबनीश, उदयवीर के नाम बता दिए। पुलिस को यह भी पता चला कि चोरी की गई बैटरी ये संजय पाल को बेचते थे। बाद में पुलिस ने चांद मोहम्मद को भी मुस्तफाबाद से गिरफ्तार कर लिया। धीरे धीरे सभी आरोपित पुलिस की पकड़ में अते गए। संजय ने पुलिस को जावेद के बारे में बताया जिसे वह बैटरी बेचता था। पुलिस ने उसे भी पकड़ लिया। पुलिस का दावा है कि आरोपितों की गिरफ्तारी से सागरपुर में दर्ज बैटरी चोरी के चारों मामले सुलझ गए हैं।