सनसनी ऑफ़ इंडिया
विजय कुमार दिवाकर, नई दिल्ली।

दिल्ली के तीस हजारी कोर्ट में पुलिस और वकीलों के बीच हिंसक झड़प हुई. मामला इतना बढ़ा कि पुलिस ने फायरिंग शुरू कर दी. वहीं गुस्साए वकीलों ने पुलिस जिप्सी के साथ-साथ कई वाहनों को आग के हवाले कर दिया. वकीलों ने कोर्ट परिसर में खड़ी गाड़ियों में तोड़फोड़ भी की.

दिल्ली के तीस हजारी कोर्ट में आज पुलिस और वकीलों के बीच हिंसक झड़प हुई. मामला इतना बढ़ा कि पुलिस ने फायरिंग शुरू कर दी. वहीं गुस्साए वकीलों ने पुलिस जिप्सी के साथ-साथ कई वाहनों को आग के हवाले कर दिया. वकीलों ने कोर्ट परिसर में खड़ी गाड़ियों में तोड़फोड़ भी की. इस जबरदस्त झड़प में वकीलों ने पुलिस के कुछ अधिकारियों की पिटाई कर दी. वहीं पुलिस फायरिंग में कई वकील बुरी तरह घायल हो गए, जिन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया है. कोर्ट परिसर में पुलिस और वकीलों में बीच बढ़ते विवाद को देखकर लोगों की भारी भीड़ मौके पर जमा हो गई.

एक कांस्टेबल गंभीर रूप से घायल हो गया

SHO को लगे 20 टांके, एक कांस्टेबल ICU में भर्ती
दिल्ली दिल्ली के तीस हजारी कोर्ट में शनिवार को पुलिस और वकीलों के बीच हुई हिंसक झड़प में 20 पुलिसकर्मी घायल हो गए. इसमें पुरानी दिल्ली कोतवाली के एसएचओ को 10 टांके आए. वहीं एक कांस्टेबल गंभीर रूप से घायल हो गया जो आईसीयू में भर्ती है. बता दें वकीलों ने जब पुलिस पर हमला किया तो सभी पुलिस वाले खुद को बचाने के लिए अदालत के लॉकअप की तरफ भागे और सबने खुद को अंदर बंद कर लिया. वकीलों की भीड़ ने लॉकअप का ताला तोड़ने की कोशिश की. जब ताला तोड़ने में कामयाबी नहीं मिली तो लॉकअप के आगे के हिस्से को आग के हवाले कर दिया. किसी तरह से पुलिस वालों ने वकीलों को लॉकअप से बाहर निकाला और लॉक अप को सेफ जोन में बदला और फोर्स आने तक वहीं छिपकर बैठे रहे.के तीस हजारी कोर्ट में शनिवार को पुलिस और वकीलों के बीच हुई हिंसक झड़प में 20 पुलिसकर्मी घायल हो गए. इसमें पुरानी दिल्ली कोतवाली के एसएचओ को 10 टांके आए. वहीं एक कांस्टेबल गंभीर रूप से घायल हो गया जो आईसीयू में भर्ती है.

पुलिस के रोकने पर कहासुनी
दरअसल, घटना की शुरुआत तीस हजारी कोर्ट के लॉकअप से हुई, जब एक वकील (सुरेंद्र वर्मा) को थर्ड बटालियन के पुलिसकर्मी ने अंदर जाने से रोका. इसके बाद कहासुनी और गहमागहमी के बाद विवाद बढ़ता चला गया. जानकारी के मुताबिक, सुरेंद्र वर्मा नाम के वकील को गोली लगी है और यह गोली पुलिस ने चलाई है.

पुलिस की गोली से वकील घायल
बता दें कि मुलजिम को पेश करने के बाद एक पुलिसकर्मी वापस लौट रहा था इसी दौरान वकील सुरेंद्र उसी मुलजिम से बात करते हुए लॉकअप तक जा पहुंचे. पुलिस वाले ने वकील को रोका और कहा कि यहां आने की अनुमति नहीं है, इसके बाद थोड़ी धक्का-मुक्की हुई फिर कहासुनी के बाद मामला इतना बढ़ गया कि इधर से वकील और उधर से और पुलिसकर्मी आने लगे. इस दौरान असलाधारी पुलिसकर्मी से गोली चली और वकील सुरेंद्र घायल हो गए.

अधिवक्ता विजय शर्मा को लगी है गोली
प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक पुलिसकर्मियों ने पीड़ित वकील व दो अन्य वकीलों को लॉकअप में बंद कर दिया। इस सूचना के आधार पर लॉकअप के बाहर बड़ी संख्या में वकील एकत्रित हो गए। वकीलों ने पुलिसकर्मियों को दौड़ाना शुरु कर दिया। वकीलों की भीड़ को देख एक पुलिसकर्मी ने बचाव में गोली चलाई, जोकि अधिवक्ता विजय शर्मा के सीने में लग गई। बहरहाल अधिवक्ता विजय शर्मा का सेंट स्टीफन अस्पताल में इलाज चल रहा है।

17 वाहन में तोड़फेोड़ की व आग लगाई
संघर्ष के दौरान 17 वाहनों में तोड़फोड़ की। कुछ वाहनों में आग भी लगा दी, जिनमें पुलिस की जिप्सी, बाइक व अन्य वाहन शामिल हैं। मीडिया कर्मियों के साथ भी धक्का-मुक्की हुई। मीडियाकर्मियों के मोबाइल छीन लिए गए। वीडियो बना रहे आम लोगों के मोबाइल भी छीन लिए गए। इस हंगामें में कई महिला वकील भी जख्मी हुई हैं। हालात बिगड़ते देखकर वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों ने आसपास के सभी थानो के अलावा दूसरे जिलों से फोर्स बुला ली। देर शाम तक पुलिस अफसर वकीलों को समझाने में लगे थे।

कोर्ट में इलेक्शन का माहौल
तीस हजारी कोर्ट में वकीलों और पुलिस के बीच झड़प में ना केवल पुलिस जिप्सी को जला दिया गया, बल्कि कई वाहनों को भी आग के हवाले कर दिया गया. फिलहाल मौके पर भारी पुलिस बल मौजूद है. इस वक्त तीस हजारी कोर्ट में इलेक्शन का माहौल चल रहा है लिहाजा वकीलों की काफी गहमागहमी के बीच पुलिस से झड़प का मामला वक्त के साथ बढ़ता ही गया.

बाहरी व्यक्तियों की एंट्री बंद
वहीं, दिल्ली पुलिस का कहना है कि फायरिंग जैसी बात सामने नहीं आई, पुलिस फोर्स तैनात कर दी गई है और बवाल रोकने की कोशिश जारी है. इसके अलावा तीस हजारी के सभी गेट पुलिस ने बंद कर दिए हैं, किसी भी बाहरी व्यक्ति को अंदर नहीं जाने दिया जा रहा है. वहीं, कोर्ट परिसर में पुलिस और वकीलों में बीच बढ़ते विवाद को देखकर लोगों की भारी भीड़ मौके पर जमा हो गई. मौजूद लोगों ने वीडियो बनाने लगे तो उनके मोबाइल से वीडियो भी डिलीट कराए गए.

झड़प में एक मुलजिम फरार
पुलिस सूत्र का कहना है इस गहमागहमी में उत्तर प्रदेश पुलिस का एक मुलजिम भी हाथ से छूट गया जो पेशी के लिए आया हुआ था.

घायल वकीलों के लिए मुआवजे का एलान
दिल्ली बार काउंसिल ने तीस हजारी अदालत में पुलिस के साथ झड़प के बाद आईसीयू में भर्ती दो वकीलों को रविवार को दो-दो लाख रुपये मुआवजा देने की घोषणा की। साथ ही घायल अधिवक्ताओं को 50-50 हजार रुपये मुआवजा दिया जाएगा। दिल्ली बार काउंसिल के अध्यक्ष के सी मित्तल ने कहा कि इस घटना की न्यायिक जांच का तत्काल आदेश दिया जाना चाहिये। काउंसिल ने एक विज्ञप्ति में कहा, “हमने न्यायाधीशों के साथ अस्पताल में वकीलों से मुलाकात की। बीडीसी ने आईसीयू में भर्ती दो वकीलों को चिकित्सा खर्च के अलावा दो-दो लाख रुपये मुआवजा देने का फैसला किया है। साथ ही लाठीचार्ज में घायल वकीलों को 50-50 हजार रुपये दिये जाएंगे। हमें हैरानी है कि अभी तक इस मामले में प्राथमिकी दर्ज नहीं की गई है।