सनसनी ऑफ़ इंडिया
झांसी के थाना प्रेमनगर क्षेत्र स्थित नयागांव के पास नहर में खड़ी कार में मिले युवक के शव की पुलिस ने गुत्थी सुलझा दी है। पत्नी ने ही संपत्ति को लेकर पांच लाख रुपये की सुपारी देकर तीन साथियों से पति की हत्या कराई थी। हत्या के बाद घटना दिखाने के लिए कार में शव रखकर नहर में धकेल दिया था। पुलिस ने पत्नी समेत चार लोगों को गिरफ्तार कर लिया है।

इसी कार में मिला था युवक का शव

एसएसपी डॉ. ओपी सिंह ने बताया कि थाना मोंठ के भरोसा गांव व हाल में थाना सीपरी बाजार के मसीहागंज निवासी विवेक उपाध्याय (28) का शव थाना प्रेमनगर क्षेत्र स्थित नयागांव नहर में खड़ी कार में मिला था। मौके पर पहुंची पुलिस ने पड़ताल कर शव कब्जे में लिया था।

पता चला था कि विवेक की गला दबाकर हत्या की गई थी। पुलिस ने पास से ही खून से सना पत्थर भी बरामद किया था। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में भी हत्या की पुष्टि होने के बाद हत्यारों की तलाश शुरू कर दी थी।

पुलिस ने मौके से मिले कई सुबूतों के आधार पर पड़ताल शुरू की, जहां पत्नी की संलिप्तता सामने आने लगी। पुलिस ने शक होने पर मृतक की पत्नी सोनिया उपाध्याय को हिरासत में लिया। सख्ती से पूछताछ होने पर उसने अपना जुर्म स्वीकार कर लिया।

एसएसपी के अनुसार पत्नी सोनिया ने पुलिस को बताया कि उसका पति शराब पीने का आदी था। वह संपत्ति को बेचकर शराब पीने और दूसरी महिलाओं के साथ मौज मस्ती कर रकम उड़ाने लगा। उसकी आदतों से वह परेशान रहने लगी और दूसरे के साथ जीवन बिताने की सोचने लगी।

झांसी। घटना का खुलासा करते एसएसपी, पीछे खड़े हैं आरोपी

रास्ते से हटाने के लिए उसने थाना बबीना के खजराहा निवासी हरवेंद्री तथा उसके प्रेमी आनंद कुमार व एक अन्य व्यक्ति सुखनंदन को बुलाकर हत्या की साजिश रची। इसके लिए पांच लाख रुपये में सुपारी तय हुई। घटना के बाद दो लाख रुपये देने तय हुए थे।

जिसके चलते 20 अक्तूबर का सोनिया ने शाम सात बजे हरवेंद्री को उसकी बहन के यहां छोड़ आने के बहाने से विवेक को हरवेंद्री के साथ कार से नयागांव नहर भेज दिया। यहां पहले से ही आनंद राजपूत, सुखनंदन खड़े मिले। रास्ते में शराब पीने के दौरान विवेक नशे में हो गया।

इसी कार में मिला था युवक का शव

नहर के पास पहुंचते ही सभी कार में सवार हो गए। इससे पहले विवेक कुछ समझ पाता, तभी उसके सिर पर पत्थर से प्रहार के बाद गले में दुपट्टा डालकर उसकी हत्या कर दी गई। विवेक की मौत हो जाने के बाद हादसे को घटना को दिखाने के लिए सभी ने धक्का देकर को नहर में धकेल दिया।

इसके बाद सभी भागकर अपने-अपने घर चले गए। पुलिस ने सोनिया से जानकारी जुटाने के बाद तीनों आरोपियों को भी नगरा हाट के पास से पकड़ लिया। पुलिस ने हत्या में प्रयुक्त दुपट्टा व पत्थर बरामद कर लिया है।

संपत्ति बेचकर देनी थी बकाया रकम
विवेक की हत्या के लिए पांच लाख रुपये सुपारी तय हुई थी। दो लाख रुपये रकम घटना के बाद मिलनी थी और बकाया तीन लाख रुपये संपत्ति बेचकर देनी थी। बताया गया है कि मृतक ने संपत्ति व कार पत्नी के नाम कर रखी थी, लेकिन वह जबरन दबाव बनाकर बिकवाने लगा था। जिससे परेशान होकर सोनिया ने अपने साथियों के साथ मिलकर षणयंत्र रचा।