सनसनी ऑफ़ इंडिया
हिन्दू नेता कमलेश तिवारी हत्याकांड में पल-पल नए खुलासे हो रहे हैं। कड़ी से कड़ी जोड़कर पुलिस हत्यारों के करीब पहुंचती जा रही है। आज मामले में अपडेट यह है कि लखनऊ के पश्चिम क्षेत्र में स्थित एक होटल से खून से सने भगवा कपड़े मिले हैं। माना जा रहा है कि ये कपड़े हत्यारों के ही हैं। लखनऊ के पश्चिम क्षेत्र में स्थित होटल खालसा इन के कमरे में कुछ भगवा कपड़े और बैग मिले है।

होटल से बरामद भगवा कुर्ता

कपड़ों की जानकारी मिलते ही लखनऊ पुलिस ने मौके पर पहुंच कर होटल के कमरे का मुआयना किया है। पुलिस के साथ होटल पहुंची फील्ड यूनिट ने वहां से साक्ष्य जुटाए हैं। वारदात को अंजाम देने के बाद हत्यारों ने इसी होटल के कमरे में कपड़े बदले और फरार हो गए। इतना ही नहीं पुलिस का मानना है कि हत्या कों अंजाम देने आए कुख्यात ट्रेन से उतरकर होटल में रुके और यहीं से कमलेश तिवारी के घर पहुंचे थे। वारदात के बाद हत्यारे दोबारा होटल आए। 16 मिनट में कपड़े बदले और आनन फ़ानन निकल गए। सर्विसलांस की मदद से रविवार तड़के इस होटल पुलिस पहुंची तो कमरा नम्बर जी-103 में हत्यारों के भगवा और लाल रंग के कुर्ते मिल गए। ये कुर्ते पहनकर ही दोनों हत्यारे कमलेश के घर पहुंचे थे। होटल से मिले सीसी फ़ुटेज भी हत्यारों के चेहरे से मेल खा गए हैं।
एसएसपी कलानिधि का कहना है कि ये एक बड़े सबूत के तौर पर सामने आया है। कई जिलों को फ़ोटो भेज गया है। कमरे में मिले बैग और मैनेजर को दीं गयी। आईडी से भी कुछ तथ्य मिले हैं।

होटल से बरामद हुआ सामान

तौलिया, कुर्ता और बैग बरामद
तौलिया खोलने पर भी खून के धब्बे दिखे. बैग में जिओ फोन पैकेट भी मिला है. साथ ही सेविंग किट, चश्मे का डिब्बा रखा मिला. कानूनी कार्रवाई के बाद होटल का कमरा सील कर दिया गया है. हिन्दू समाज पार्टी के नेता कमलेश तिवारी हत्याकांड में नई जानकारियां सामने आई हैं. सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक हत्यारे गूगल मैप से कमलेश तिवारी के दफ्तर की लोकेशन तलाश खुर्शीदबाग पहुंचे थे. आरोपी वारदात को अंजाम देने के लिए ट्रेन से लखनऊ आए थे. लखनऊ के चारबाग रेलवे स्टेशन से कमलेश तिवारी के घर का पता पूछते हुए दोनों आरोपी गणेशगंज पहुंचे थे.

सुबह 10:38 पर निकले थे हत्यारे
होटल के रजिस्टर और सीसी फुटेज के मुताबिक होटल में हत्यारे 17 अक्तूबर की रात 11:08 पर चेक इन किया। 18 अक्तूबर की सुबह 10:38 निकले। फिर दोपहर 1:21 पर आए। कपड़े बदले और 16 मिनट में ही 1:37 बजे निकल गए।

होटल से बरामद हुआ सामान

लखनऊ के बाद बरेली में रुके थे हत्यारे
कमलेश तिवारी की हत्या करने के बाद उनके शूटर लखनऊ से बरेली आये। शहर के एक अस्पताल में एक हत्यारोपी ने मरहम पट्टी करवाई है। इसके बाद वह यहां से फरार हो गये। हत्या के दौरान हाथापाई में एक आरोपी के हाथ में चाकू लग गया था, जिसकी वजह से वह घायल हो गया। घटना के बाद दोनों हत्यारोपी ट्रेन से भागे। एसटीएफ मोबाइल नंबर के आधार पर उनकी लोकेशन ट्रेस कर रही थी। घटना के कुछ घंटों बाद दोनों शूटर की लोकेशन बरेली में मिली। शहर के एक अस्पताल में एक शूटर ने मरहम पट्टी कराई। लोकेशन ट्रेस करते हुये एसटीएफ की टीम वहां पहुंच गई। इससे पहले हत्यारोपी वहां से जा चुके थे।

कहीं बरेली के रास्ते नेपाल तो नहीं निकल गए हत्यारों
अस्पताल के सीसीटीवी खंगाले गये, जिसमें पता लगा कि एक हत्यारोपी के हाथ में पट्टी बंधी थी। इसके बाद आरोपी बरेली से फरार हो गये। पुलिस टीमों ने डॉक्टर से भी पूछताछ की है। हत्यारोपियों के बरेली से जाने के बाद उनकी लोकेशन अभी तक ट्रेस नहीं हुई है। बरेली में छिपे होने की आशंका पर एसपी सिटी के नेतृत्व में शहर भर के सीओ, इंस्पेक्टर ने होटलों, सराय, धर्मशाला, जंक्शन, बसअड्डे पर छापेमारी की लेकिन पुलिस के हाथ फिलहाल कुछ नहीं लगा। आशंका है कि कमलेश तिवारी के हत्यारे बरेली के रास्ते नेपाल न निकल गये हों।

होटल से बरामद हुआ सामान