पुलिस ने इनके पास से लूटा गया ऑटो, दो चाकू, एक मोबाइल फोन और पांच हजार कैश बरामद किया है. अब पुलिस इनसे पूछताछ कर रही है कि इन तीनों ने अब तक इस तरह की कितनी वारदातों को अंजाम दिया है.

सनसनी ऑफ़ इंडिया
अपराध पर लगाम लगाने के लिए पुलिस कदम उठाती है, तो अपराधी भी तू डाल-डाल, मैं पात-पात की कहावत को चरितार्थ करते हुए नई तरकीब खोज लेते हैं. इन दिनों नोएडा में ऑटो चालकों के साथ ऑटो और कैश लूटने के लिए लुटेरे इसी तरह की नई तरकीब अपना रहे थे. लुटेरे सामान्य सवारी बनकर बैठते थे और सुनसान इलाके में ड्राइवर से मारपीट कर कैश और ऑटो लूट लेते थे.

नोएडा पुलिस की गिरफ्त में लुटेरे

नोएडा पुलिस ने इसी तरह के एक गैंग का पर्दाफाश किया है. पुलिस के मुताबिक इस गैंग के बदमाश बेहद शातिर थे. यह होते तो एक साथ थे, लेकिन ऐसे दिखाते थे कि कोई किसी को जानता ही नहीं. सब अलग-अलग हों. यह एक ही ऑटो में बैठ जाते और फिर किसी सुनसान जगह पर पहुंचते ही ऑटो चालक के साथ मारपीट कर उसके पास का कैश लूट लेते. ऑटो चालक को सड़क के किनारे फेंक देते और ऑटो भी लूट कर फरार हो जाते थे.

नोएडा पुलिस की गिरफ्त में लुटेरे

पुलिस के अनुसार 23 जुलाई को बिसरख थाने में एक ऑटो चालक ने शिकायत की थी कि उसके ऑटो में तीन सवारियां थीं. उसे लगा था कि सारी सवारियां अलग हैं. वह एक सुनसान इलाके से गुजर रहा था कि तभी उन तीनों से उससे ऑटो रुकवा दिया. ऑटो रोकते ही तीनों ने उसके साथ मारपीट शुरू कर दी. उसके पास पांच हजार रुपये कैश थे. पांच हजार रुपये लूट कर बदमाशों ने उसे सड़क के किनारे फेंक दिया और ऑटो लेकर भाग निकले.

पुलिस ने इस शिकायत पर केस दर्ज कर जांच शुरु की तो उसे कोई सुराग नहीं मिला. पुलिस की एक टीम लगातार इस गैंग की तलाश में लगी रही. तीन महीने से अधिक समय बीतने के बाद पुलिस को इस गैंग के बारे में पता चला, जिसके बाद पुलिस ने बिसरख चार मूर्ति गोल चक्कर के पास से गैंग के तीन लुटेरों अंकित, गुलशन और सोनू को गिरफ्तार कर लिया. पुलिस ने इनके पास से लूटा गया ऑटो, दो चाकू, एक मोबाइल फोन और पांच हजार कैश बरामद किया है. अब पुलिस इनसे पूछताछ कर रही है कि इन तीनों ने अब तक इस तरह की कितनी वारदातों को अंजाम दिया है.